एक विचार है कि नागरिक समाज (सिविल सोसाइटी) चौथी पीढ़ी के युद्ध के लिए नये ‘युद्ध सीमान्त’ के रूप में उभर रहा है।

Question – एक विचार है कि नागरिक समाज (सिविल सोसाइटी) चौथी पीढ़ी के युद्ध के लिए नये युद्ध सीमान्तके रूप में उभर रहा है। क्या आप इस मत से सहमत हैं? तार्किक तर्कों के साथ पुष्टि  कीजिए। 10 March 2022

Answerनागरिक समाज परिवारों, राज्य और लाभ चाहने वाले संस्थानों से अलग साझा हितों, उद्देश्यों और मूल्यों के आसपास स्वैच्छिक सामूहिक कार्यों का एक क्षेत्र है। इसमें सामुदायिक समूहों, गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ), श्रमिक संघों, स्वदेशी समूहों, धर्मार्थ संगठनों, विश्वास-आधारित संगठनों, पेशेवर संघों और नींव सहित संगठनों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है। लामबंद होने पर, नागरिक समाज के पास निर्वाचित नीति-निर्माताओं और व्यवसायों के कार्यों को प्रभावित करने की शक्ति होती है।नागरिक समाज परिवारों, राज्य और लाभ चाहने वाले संस्थानों से अलग साझा हितों, उद्देश्यों और मूल्यों के आसपास स्वैच्छिक सामूहिक कार्यों का एक क्षेत्र है। इसमें सामुदायिक समूहों, गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ), श्रमिक संघों, स्वदेशी समूहों, धर्मार्थ संगठनों, विश्वास-आधारित संगठनों, पेशेवर संघों और नींव सहित संगठनों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है। लामबंद होने पर, नागरिक समाज के पास निर्वाचित नीति-निर्माताओं और व्यवसायों के कार्यों को प्रभावित करने की शक्ति होती है।

हाल के दिनों में, यह तर्क दिया गया है कि नागरिक समाज के कुछ वर्ग धीरे-धीरे ‘चौथी पीढ़ी के युद्ध’ के लिए एक सीमान्त के रूप में उभर रहे हैं, जिसमें राज्य, गैर-राज्य अभिकर्ताओं से लड़ रहा है।

आज के डिजिटल युग में युद्ध का क्षितिज असीमित हो चुका है। अब युद्ध मात्र सीमा पर ही नहीं, बल्कि आम जनता के घरों अर्थात समाज के मूल तक पहुंच चुका है।  भारत विरोधी तत्व देश की सामाजिक व्यवस्था को तोड़ने का हरसंभव प्रयास करते हैं। ऐसे प्रयासों के लिए कई तरह के एनजीओ बनाए जाते हैं, जिससे समाज में उथल-पुथल मचाया जा सके। जिसे देखते हुए देश की आंतरिक सुरक्षा की जिम्मेदारी भी कई गुना बढ़ चुकी है।

ऐसे न जाने कई एनजीओ हैं, जो विदेशों से फंडिंग पा कर समाज को किसी भी प्रकार से अस्थिर करना चाहते हैं, चाहे वो भारत द्वारा चीन के साथ लगे बॉर्डर पर रोड बनाने को लेकर विरोध प्रदर्शन कर के ही क्यों न करना पड़े।

2014 में, इंटेलिजेंस ब्यूरो ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि भारतीय विकास परियोजनाओं को बंद करने के लिए चुनिंदा विदेशी वित्त पोषित गैर सरकारी संगठनों द्वारा एक ठोस प्रयास किया गया है। रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि इस तरह की विकास विरोधी गतिविधियों का जीडीपी विकास दर 2-3% प्रति वर्ष पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। रिपोर्ट के अनुसार, इस तरह के अभियानों के लिए धन विदेशी दानदाताओं से दान की आड़ में आया, जैसे कि मानवाधिकारों की सुरक्षा, महिलाओं के खिलाफ हिंसा, जातिगत भेदभाव, धार्मिक स्वतंत्रता और स्वदेशी लोगों की आजीविका की सुरक्षा जैसे मुद्दों के लिए।

परमाणु ऊर्जा संयंत्रों जैसी विकास परियोजनाओं के खिलाफ कथित रूप से विरोध को हवा देने के लिए सरकार द्वारा पूर्व में गैर सरकारी संगठनों को जांच के दायरे में रखा गया है। विदेशी अंशदान नियमन अधिनियम के तहत नए कड़े नियमों के कारण 10,000 से अधिक गैर सरकारी संगठनों ने अपना परमिट खो दिया है।

हालाँकि, सभी CSO को आतंक और विद्रोही समूहों के समान श्रेणी में रखना एक घोर गलत अनुमान होगा:

  • कई नागरिक समाज अभिकर्ता वाणिज्यिक या राजनीतिक हितों से अलग खड़े होकर और महत्वपूर्ण पहलुओं को उजागर करके महत्वपूर्ण मूल्य प्रदान करते हैं, जिन पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता होती है।
  • शासन की जटिलताओं को देखते हुए, स्वतंत्र संगठनों और व्यक्तियों की स्थायी आवश्यकता है जो निगरानी, नैतिक संरक्षक और हाशिए पर या कम प्रतिनिधित्व वाले समुदायों के अधिवक्ताओं के रूप में कार्य कर सकते हैं।

लोकतंत्र की सफलता के लिए नागरिक समाज की भूमिका महत्वपूर्ण है। इसलिए, नागरिक समाज को अपने सभी रूपों में अपने सहित सभी हितधारकों को जवाबदेही के उच्चतम स्तर पर रखना जारी रखना चाहिए। नागरिक समाज के केवल उन वर्गों का, जिनका ट्रैक रिकॉर्ड संदिग्ध है या जिनके निहित स्वार्थ हैं, उन्हें बाहर निकालने की आवश्यकता है। उनकी उपयोगिता को देखते हुए व्यापक प्रतिनिधित्व वाली एक राष्ट्रीय प्रत्यायन परिषद की स्थापना की आवश्यकता है ताकि वास्तविक और नेक अर्थ वाले समूहों को अनावश्यक रूप से परेशान न किया जा सके।

Download our APP – 

Go to Home Page – 

Buy Study Material – 

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities