Print Friendly, PDF & Email

SIPRI की नवीनतम रिपोर्ट के अनुसारकोविड-19 के दौरान विश्व सैन्य खर्च में वृद्धि

SIPRI की नवीनतम रिपोर्ट के अनुसारकोविड-19 के दौरान विश्व सैन्य खर्च में वृद्धि

  • स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (SIPRI) द्वारा प्रकाशित नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2020 में कोविड-19 महामारी के बावजूद दुनिया भर में सैन्य खर्च 1,981 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुँच गया।
  • वैश्विक सैन्य खर्च में 2.6% की वृद्धि हुई है, जबकि 2020 में वैश्विक जीडीपी कोविड-19 महामारी के आर्थिक प्रभावों के कारण 4.4% तक सिकुड़ गई थी।

प्रमुख बिंदु:

  • वर्ष 2020 में सैन्य खर्च का वैश्विक औसतसकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के हिस्से के रूप में 2.4% तक पहुँच गया है, जो कि वर्ष 2019 में 2% पर था।
  • वर्ष 2020 में पाँच सबसे बड़े सैन्य व्ययकर्त्ता क्रमशः संयुक्त राज्य अमेरिका,चीन,भारत,रूस, औरयूनाइटेड किंगडम हैं। ये देश संयुक्त रूप से कुल वैश्विक सैन्य खर्च के62% के लिये उत्तरदायी थे।
  • सात वर्ष की निरंतर कटौती के पश्चात वर्ष 2020 अमेरिकी सैन्य खर्च में वृद्धि का लगातार तीसरा वर्ष रहा है।यहवृद्धि चीन और रूस जैसे पारम्परिक प्रतिद्वंद्वियों के कथित खतरे को लेकर बढ़ती चिंताओं और अमेरिकी सैन्य क्षमता को मज़बूत करने को लेकर अमेरिकी प्रशासन के प्रयासों को दर्शाता है।
  • 26 वर्षों से चीन कासैन्य खर्च लगातार बढ़ रहा है, SIPRIसैन्य व्यय रिपोर्ट में किसी भी देश द्वारा निरन्तर वृद्धि की यह सबसे लंबी श्रृंखला है।
  • वर्ष 2020 में उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) के लगभग सभी सदस्यों ने अपने सैन्य व्यय में बढ़ोतरी की है।
  • वर्ष 2020 में सैन्य खर्च में वृद्धि करने वाले शीर्ष 15 देशों में सऊदी अरब, रूस, इज़रायल और अमेरिका शीर्ष पर थे।

भारतीय परिदृश्य:

  • वर्ष 2020 में अमेरिका और चीन के बादभारत दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा सैन्य खर्च करने वाला देश था।
  • भारत का कुल सैन्य व्यय लगभग 72.9 बिलियन अमेरिकी डॉलर था, जो कि वैश्विक सैन्य खर्च का 3.7% है।
  • वर्ष 2019 के बाद से भारत का सैन्य खर्च 2.1% बढ़ा है। इस वृद्धि का प्रमुख कारण पाकिस्तान के साथ जारी संघर्ष और चीन के साथ सीमा पर तनाव को माना जा सकता है।
  • भारत के वार्षिक सैन्य खर्च में 33 लाख वयोवृद्ध और सेवानिवृत्त रक्षा कर्मियों के लिये एक विशाल पेंशन फंड भी शामिल है।उदाहरण के लिए रक्षा बजट (2021-2022)में कुल 4.78 लाख करोड़ रुपए परिव्यय में से 1.15 लाख करोड़ रुपए पेंशन फंड का था।

स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट(SIPRI):

  • यह संघर्ष, आयुध, हथियार नियंत्रण और निशस्त्रीकरण में अनुसंधान के लिये समर्पित एक स्वतंत्र अंतर्राष्ट्रीय संस्थान है।
  • इसकी स्थापना वर्ष 1966 में स्टॉकहोम (स्वीडन) में हुई थी।

स्रोत-इंडियन एक्सप्रेस

Download Our App

MORE CURRENT AFFAIRS

 

Open chat
1
Youth Destination IAS . PCS
To get access
- NCERT Classes
- Current Affairs Magazine
- IAS Booklet
- Complete syllabus analysis
- Demo classes
https://online.youthdestination.in/