वैश्विक जैव ईंधन गठबंध का शुभारंभ

वैश्विक जैव ईंधन गठबंध (Global Biofuel Alliance: GBA) का शुभारंभ

हाल ही में भारत ने G20 शिखर सम्मेलन से अलग ‘वैश्विक जैव ईंधन गठबंध’ (Global Biofuel Alliance :GBA) का शुभारंभ किया है।

‘वैश्विक जैव ईंधन गठबंध’ को इसमें शामिल देशों, सिंगापुर, बांग्लादेश, इटली, अमेरिका, ब्राजील, अर्जेंटीना, मॉरीशस और संयुक्त अरब अमीरात के नेताओं ने मिलकर लॉन्च किया है ।

इस पहल का उद्देश्य टिकाऊ जैव ईंधन के उपयोग में तेजी लाना और पारंपरिक जीवाश्म ईंधन पर दुनिया की निर्भरता को कम करना है ।

वैश्विक जैव ईंधन गठबंधन के बारे में:

  • ‘GBA’ भारत की एक पहल है। GBA सदस्यों में 19 देश और 12 अंतर्राष्ट्रीय संगठन शामिल हैं।
  • साथ ही GBA का समर्थन करने वाले G20 सदस्य देशों में अर्जेंटीना, ब्राजील, कनाडा, भारत, इटली, दक्षिण अफ्रीका और अमेरिका शामिल हैं।
  • ये सभी देश जैव ईंधन को अपनाने की सुविधा प्रदान करते हैं , जिससे उभरती अर्थव्यवस्थाओं में जैव ऊर्जा पहुंच को विकसित किया जा सके।
  • अंतर्राष्ट्रीय संगठनों में विश्व बैंक, एशियाई विकास बैंक, विश्व आर्थिक मंच, विश्व एलपीजी संगठन,अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी, अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा मंच, अंतर्राष्ट्रीय नवीकरणीय ऊर्जा एजेंसी और विश्व बायोगैस एसोसिएशन शामिल हैं।
  • GBA सदस्य जैव ईंधन के प्रमुख उत्पादक और उपभोक्ता हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका (52 प्रतिशत), ब्राजील (30 प्रतिशत) और भारत (3 प्रतिशत), और इथेनॉल के उत्पादन में लगभग 85 प्रतिशत और खपत में लगभग 81 प्रतिशत का योगदान करते हैं।

वैश्विक जैव ईंधन गठबंधन का महत्व:

  • ग्लोबल बायोफ्यूल्स एलायंस विशेष रूप से परिवहन क्षेत्र में टिकाऊ जैव ईंधन को बढ़ावा देने पर ध्यान केंद्रित करता है, और इसका उद्देश्य बाजारों को बढ़ाना, वैश्विक जैव ईंधन व्यापार का समर्थन करना , नीति अंतर्दृष्टि साझा करना और दुनिया भर में राष्ट्रीय जैव ईंधन कार्यक्रमों को तकनीकी सहायता प्रदान करना है।
  • यह जैव ईंधन अपनाने और व्यापार को प्रोत्साहित करने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त मानकों, कोड, सतत सिद्धांतों और विनियमों के विकास, अपनाने और कार्यान्वयन की सुविधा भी प्रदान करेगा।
  • इसके अलावा, गठबंधन सहयोग पर ध्यान केंद्रित करेगा और प्रौद्योगिकी निर्यात और उपकरण निर्यात के रूप में भारतीय उद्योगों को अतिरिक्त अवसर प्रदान करेगा।
  • यह पहल 2070 तक शुद्ध-शून्य उत्सर्जन प्राप्त करने के लक्ष्य के साथ, वैकल्पिक ईंधन में परिवर्तन और अपने कार्बन उत्सर्जन को कम करने के भारत के लक्ष्य के अनुरूप है।

जैव ईंधन के बारे में:

  • जैव ईंधन बायोमास से प्राप्त नवीकरणीय ऊर्जा स्रोत हैं , इसे निम्न से प्राप्त किया जाता है जैसे – फसल का ठूंठ, पौधों का अपशिष्ट और नगरपालिका ठोस अपशिष्ट ।
  • भारत, एक प्रमुख तेल आयातक, जो अपनी 85 प्रतिशत से अधिक कच्चे तेल की जरूरतों का आयात करता है,
  • देश का लक्ष्य 2025 तक पेट्रोल में इथेनॉल के मिश्रण को 20% तक बढ़ाना है और संपीड़ित बायोगैस (सीबीजी) संयंत्र स्थापित कर रहा है।

स्रोत – इंडियन एक्सप्रेस 

Download Our App

More Current Affairs

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities