स्वामी विवेकानंद की उन महत्वपूर्ण शिक्षाओं को इंगित जो आज के युवाओं के लिए प्रासंगिक हैं।

Question – स्वामी विवेकानंद की उन महत्वपूर्ण शिक्षाओं को इंगित कीजिए, जो आज के युवाओं के लिए प्रासंगिक हैं। 11 February 2022

Answerस्वामी विवेकानंद के दर्शन और आदर्श, जिन्हे स्वामी जी ने अपने जीवन में आत्मसात किया, आज के युवाओं के लिए प्रेरणा का एक बड़ा स्रोत हैं। वे चाहते थे कि, युवाओं सहित देशवासियों में ‘लोहे की मांसपेशियां’, ‘इस्पात की नसें’ और ‘वज्र के समान मस्तिष्क’ हो। स्वामी विवेकानंद ने अपने दार्शनिक विचार में मनुष्य की मुक्ति का एक उच्च आदर्श पाया।

युवाओं के लिए प्रासंगिक कुछ शिक्षाएँ इस प्रकार हैं:

चरित्र निर्माण: उनका मानना था कि देश के युवाओं के पास भारत की विभिन्न समस्याओं के समाधान की कुंजी है। उनके अनुसार प्रत्येक मनुष्य अपनी क्षमता से स्वयं (आत्म-निर्माण) का मार्गदर्शन कर सकता है, साथ ही साथ समाज में सक्रिय भूमिका भी निभा सकता है। युवाओं के लिए अपने कौशल को विकसित करने और खुद के लिए एक पहचान बनाने के लिए व्यक्तिगत क्षमता पर यह जोर प्रासंगिक है।

शिक्षा और समाज: विवेकानंद ने समाज के निर्माण में शिक्षा की भूमिका को बहुत महत्व दिया। उनका मानना था कि भारतीय समाज की शुरुआत से ही गुरु-शिष्य परम्परा आदि जैसी अपनी बुनियादी विशेषताएं थीं, जिन्हें किसी भी कीमत पर बनाए रखा जाना चाहिए।

परोपकार और मानव सेवा: विवेकानंद ने एक बार कहा था, “जब तक लाखों लोग भूख और अज्ञानता में रहते हैं, मैं हर व्यक्ति को देशद्रोही मानता हूं।” इस तरह के आह्वान ने युवाओं को पीड़ित मानवता की सेवा करने के लिए प्रेरित किया। यह युवाओं के लिए प्रासंगिक है, क्योंकि यह समाज सेवा, परोपकार और मानवतावाद की भावना को प्रोत्साहित करेगा।

राष्ट्रीय जागृति की भावना: वह चाहते थे कि युवा जो अंततः नेता बने, राष्ट्रीय जागरण में योगदान दें, हमारे पूर्वजों के शाश्वत आध्यात्मिक सत्य का प्रचार और शिक्षा दें। “उठो, जागो और लक्ष्य प्राप्त होने तक मत रुको” के अपने संदेशों के साथ, उन्होंने युवाओं को राष्ट्रवाद की भावना का आह्वान करने का आह्वान किया।

सार्वभौमिक सहिष्णुता: विश्व धर्म संसद में उनका प्रसिद्ध भाषण सार्वभौमिक सहिष्णुता पर जोर देता है। अत्यधिक ध्रुवीकृत वैश्विक विश्व व्यवस्था में युवाओं के लिए यह शिक्षण महत्वपूर्ण है।

स्वामी विवेकानंद का जन्म 19वीं शताब्दी के अंत में हुआ था लेकिन उनके विचार और जीवन दर्शन आज के युग में अत्यधिक प्रासंगिक हैं। विवेकानंद जैसा महापुरुष मृत्यु के बाद भी जीवित रहता है, और अमर हो जाता है और सदियों तक अपने विचारों और शिक्षाओं से लोगों को प्रेरित करता रहता है। वर्तमान समय में विश्व संरक्षणवाद और कट्टरवाद की ओर बढ़ रहा है, जिससे भारत भी अछूता नहीं है। विवेकानंद का राष्ट्रवाद न केवल अंतर्राष्ट्रीयवाद बल्कि मानवतावाद को भी प्रेरित करता है। इसके साथ ही विवेकानंद की धर्म की अवधारणा लोगों को जोड़ने के लिए बहुत उपयोगी है, क्योंकि यह अवधारणा भारतीय संस्कृति के सार्वभौमिक सिद्धांत पर जोर देती है। यदि दुनिया सभी धर्मों की समानता के सिद्धांत का पालन करे तो दुनिया की दो-तिहाई समस्याओं और हिंसा को रोका जा सकता है। बड़ी संख्या में भारतीय अभी भी गरीबी में जीने को मजबूर हैं और हाशिए के समुदायों की समस्याएं अभी भी जस की तस हैं। यदि विवेकानंद की दरिद्रनारायण की अवधारणा को साकार किया जाए, तो असमानता, गरीबी, असमानता, अस्पृश्यता आदि से बिना बल प्रयोग किए निपटा जा सकता है और एक आदर्श समाज की अवधारणा को साकार किया जा सकता है।

Download our APP – 

Go to Home Page – 

Buy Study Material – 

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities