HSN-कोड और सेवा लेखा कोड (SAC)की अनिवार्यता

Print Friendly, PDF & Email

HSN-कोड और सेवा लेखा कोड (SAC)की अनिवार्यता

HSN-कोड और सेवा लेखा कोड (SAC)की अनिवार्यता

हाल ही में वित्त मंत्रालय ने घोषणा की है कि, 5 करोड़ रुपये से अधिक टर्नओवर वाले GST करदाताओं के लिए 6 अंकीय HSN (हार्मोनाइज्ड सिस्टम ऑफ नोमेनक्लेचर) कोड औरSAC (सर्विस अकाउंटिंग कोड) को अनिवार्य बनाया गया है।

HSN- कोड क्या है?

  • एचएसएन का मतलब नामकरण कूट के सुसंगतप्रणाली से है। यह 1988 में विश्व सीमा शुल्क संगठन (WCO) द्वारा प्रस्तावित किया गया था।
  • उद्योग वर्गीकरण प्रणालियों में, सुसंगतप्रणाली (एचएस) कोड, आमतौर पर “वस्तुओं” के निर्यात प्रक्रिया में उपयोग किया जाता है।
  • HSN कोड में 21 खंड हैं। इन्हें 99 अध्यायों में विभाजित किया गया है जो 1244 खंडों में विभाजित हैं।
  • भारत, कस्टम और सेंट्रल एक्साइज के लिए वस्तुओं को वर्गीकृत करने के लिए 1986 से एचएसएन कोड का उपयोग कर रहा है।
  • विश्व भर में, उत्पादों के शुल्क और करों का आकलन तथा इससे सम्बंधित आंकड़े इकट्ठा करने के लिए, सीमा शुल्क अधिकारियों द्वारा इसका प्रयोग किया जाता है ।

सेवा लेखा कोड (SAC) क्या है?

  • SAC कोड, सेवा लेखांकन से सम्बंधित है।
  • यह जीएसटी के तहत प्रत्येक सेवा को वर्गीकृत करने के लिए केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) द्वारा जारी किया जाता है।

एचएसएन कोड के लाभ:

  • यह सार्वभौमिक रूप से एक साथ काम करने की अधिक सरलता प्रदान करता है।
  • यह देश भर में, सीमा शुल्क और केन्द्रीय उत्पाद शुल्क के लिए, वस्तुओं की विशेषता बताने में मदद करता है।
  • यह विश्व में सभी जगह एक समान कर का निर्धारण करने में सहायता करता है।

स्त्रोत: द इकोनोमिक टाइम्स

 

Download Our App

MORE CURRENT AFFAIRS

Open chat
1
Youth Destination IAS . PCS
To get access
- NCERT Classes
- Current Affairs Magazine
- IAS Booklet
- Complete syllabus analysis
- Demo classes
https://online.youthdestination.in/