अर्थव्यवस्थाओं के विस्तार, जनसंख्या वृद्धि और ऊर्जा गहन प्रौद्योगिकी के समाधान  के लिए भूतापीय ऊर्जा किस प्रकार सहायक हो सकती है

Question – अर्थव्यवस्थाओं के विस्तार, जनसंख्या वृद्धि और ऊर्जा गहन प्रौद्योगिकी के समाधान  के लिए भूतापीय ऊर्जा किस प्रकार सहायक हो सकती है भारत के सन्दर्भ में उल्लेख कीजिए। 7 March 2022

Answerभूतापीय ऊर्जा सबसे बहुमुखी अक्षय ऊर्जा है, और इसका उपयोग हजारों वर्षों से धुलाई, स्नान, भोजन पकाने और स्वास्थ्य के लिए किया जाता रहा है।

यह ऊर्जा ग्रह के निर्माण के दौरान भूवैज्ञानिक प्रक्रियाओं, खनिजों के रेडियोधर्मी क्षय आदि से उत्पन्न होता है। भारत में 5 भू-तापीय क्षेत्र, और कई भू-तापीय झरने हैं।

भूतापीय: भारतीय संदर्भ में स्थिति और क्षमता

‘भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण’ विभिन्न भौगोलिक और तापमान क्षेत्रों में वितरित 400 ताप स्प्रिंग्स से उत्पादित 10,000 मेगावाट के क्रम की क्षमता का अनुमान लगाता है।

मानचित्रित सभी 400तापीय सोतें उपयोग के लिए सुलभ हैं, और यदि इनका उपयोग किया जाता है तो ये सोतें 200 मेगावाट के वर्तमान अल्प उपयोग की तुलना में पर्याप्त ऊर्जा प्रदान कर सकते हैं। 400 तापीय सोतें में से 150 हिमालयी जियोथर्मल बेल्ट (HGB) में मौजूद हैं, जिनका तापमान 47 डिग्री सेल्सियस से 87 डिग्री सेल्सियस के बीच है। उदाहरण के लिए, लेह और मणिकरण के निकट स्थित पुगा, चुमाथांग, नुब्रा के थर्मल प्रांत आदि।

वर्तमान संदर्भ में भूतापीय ऊर्जा (GE) के कुछ लाभ निम्नलिखित हैं:

ऊर्जा का अक्षय स्रोत: भू-तापीय ऊर्जा पृथ्वी के अंतरतम से निकाली जाती है, और जब तक पृथ्वी का अस्तित्व रहेगा, तब तक उपलब्ध रहेगी, इसलिए यह नवीकरणीय है और लगभग 4-5 अरब वर्षों तक इसका उपयोग किया जा सकता है।

पर्यावरण के अनुकूल: भू-तापीय ऊर्जा अपने उत्पादन और उपयोग के सभी पहलुओं में बिल्कुल शून्य कार्बन के साथ पूर्णरूपेण हरित है। अतः यह वर्तमान के वृहद् जनसँख्या के कारण उत्पन्न प्रदूषण का उचित विकल्प है।

प्रचुर मात्रा में आपूर्ति: कोई उतार-चढ़ाव न होने के कारण संसाधन सौर या पवन ऊर्जा के विपरीत,  हमेशा उपयोग करने के लिए उपलब्ध होता है। यह वृहद् अर्थवयवस्थायों के लिए सबसे साधक विकल्प है।

उच्च दक्षता: भू-तापीय उष्मा पंप प्रणाली तापन या शीतलन के लिए पारंपरिक प्रणाली की तुलना में 25% से 50% कम बिजली का उपयोग करते हैं, और पारंपरिक प्रणाली के विपरीत हार्डवेयर के लिए कम जगह की आवश्यकता होती है।

भारत में भू-तापीय विद्युत संयंत्र के सम्मुख चुनौतियां और बाधाएं

पारंपरिक विद्युत संयंत्रों के विपरीत (जो ईंधन पर चलते हैं ), भू-तापीय  विद्युत संयंत्र एक नवीकरणीय संसाधन का उपयोग करते हैं जो मूल्य में उतार-चढ़ाव के लिए अतिसंवेदनशील नहीं है। भू-तापीय विद्युत संयंत्रों से संबंधित अधिकांश लागत संसाधन अन्वेषण और संयंत्र निर्माण से संबंधित हैं।

यद्यपि भूतापीय ऊर्जा एक नवीकरणीय शक्ति है, लेकिन इसके कुछ अवरोध इस प्रकार हैं:

  • एक उपयुक्त निर्माण स्थान की प्राप्ति
  • पवन, सौर और हाइड्रो जैसे ऊर्जा स्रोत अधिक लोकप्रिय और अच्छी तरह से स्थापित हैं। ये कारक डेवलपर्स को भू-तापीय के विरुद्ध निर्णय लेने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।
  • ग्रीनहाउस उत्सर्जन के बारे में पर्यावरण संबंधी चिंताएँ: पृथ्वी की सतह के नीचे जमा गैसों को खुदाई के दौरान वातावरण में छोड़ दिया जाता है जिससे पर्यावरणीय क्षति होती है। साथ ही, H2S प्रदूषण से संबंधित चिंताएं भी हैं।
  • सतही अस्थिरता और भूकंप: भू-तापीय ऊर्जा भूकंप के ख़तरे को प्रबल करती है, क्योंकि भू-तापीय बिजली संयंत्र के निर्देश में गर्म चट्टान की ड्रिलिंग शामिल होती है, जिसमें इसके छिद्रों में फंसे पानी या भाप होती है।

भूतापीय ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए सरकार का प्रयास:

  • नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय ने राज्यों की भूमिका और सक्रिय भागीदारी पर बल देते हुए भारतीय भू-तापीय ऊर्जा विकास फ्रेमवर्क का मसौदा जारी किया है।
  • भू-तापीय ऊर्जा पर मसौदा राष्ट्रीय नीति 2022 तक प्रारंभिक चरण में 1000 मेगावाट की भू-तापीय ऊर्जा क्षमता की उपलब्धता के द्वारा भारत को भू-तापीय ऊर्जा में एक वैश्विक अगुआ के रूप में स्थापित करने की परिकल्पना करती है।

भूतापीय ऊर्जा का दोहन करने के लिए सक्रिय उपाय, भारत को अपनी ऊर्जा आवश्यकताओं की पूर्ति में मदद कर सकते हैं, क्योंकि यह COP26 के तहत अपनी प्रतिबद्धताओं को खोए बिना, आर्थिक रूप से विकसित होने का विकल्प प्रदान करता है। परिनियोजन कार्यक्रमों और पर्यावरण की दृष्टि से संवेदनशील ऊर्जा नीतियों के साथ, जियोथर्मल भारतीय राज्यों और पूरे विश्व भर के देशों में एक प्रमुख ऊर्जा योगदानकर्ता बन सकता है।

Download our APP – 

Go to Home Page – 

Buy Study Material – 

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities