भारत की नई संसद के प्रवेश द्वार

भारत की नई संसद के प्रवेश द्वार 

चर्चा में क्यों 

हाल ही में उपराष्ट्रपति ने भारत के नए संसद भवन के पहले सत्र से पहले गज द्वार पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया हैं।

नई संसद के बारे में 

इसे भारत सरकार की सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास परियोजना के हिस्से के रूप में बनाया गया था।

नए संसद भवन में जानवरों और जीव-जंतुओं के नाम पर छह द्वार हैं।

इन छह प्रवेश द्वारों में से तीन को विशेष मेहमानों के स्वागत और विशेष आयोजनों को चिह्नित करने के लिए औपचारिक प्रवेश द्वार के रूप में डिजाइन किया गया है। इन्हें क्रमशः ज्ञान, शक्ति और कर्म नाम दिया गया है, जो भारतीय ज्ञान प्रणाली, देशभक्ति और कलात्मक परंपराओं का प्रतिनिधित्व करते हैं।

India’s New Parliament Building

मुख्य बिंदु

  • उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने भारत के नए गज द्वार (हाथी द्वार) पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया
  • यह घटना नई संसद में गज द्वार और अन्य प्रवेश द्वारों के प्रतीकात्मक महत्व पर प्रकाश डालती है।

गज द्वार (हाथी द्वार)

बुद्धि और धन: नए संसद भवन में छह प्रवेश द्वार हैं, जिनमें से प्रत्येक एक अलग भूमिका का प्रतिनिधित्व करता है। गज द्वार, एक हाथी की मूर्ति से सुसज्जित, उत्तरी प्रवेश द्वार की रक्षा करता है। हाथी ज्ञान, धन, बुद्धि, स्मृति का प्रतीक है और लोकतंत्र में निर्वाचित प्रतिनिधियों की आकांक्षाओं का प्रतीक है।

वास्तु शास्त्र: वास्तु शास्त्र के अनुसार, उत्तर दिशा उच्च बुद्धि के स्रोत बुध ग्रह से संबंधित है और इसके स्वामी धन के देवता कुबेर हैं। इसलिए गज को उत्तरी प्रवेश द्वार पर रखा जाता है।

सांस्कृतिक प्रतीकवाद

संरक्षक प्रतिमाएँ: नए संसद भवन के सभी छह प्रवेश द्वारों पर शुभ जानवरों की लाल बलुआ पत्थर की मूर्तियाँ हैं जिन्हें “अभिभावक प्रतिमाएँ” कहा जाता है। ये चयन भारतीय संस्कृति में उनके महत्व, सौंदर्य अपील, सकारात्मक गुणों और वास्तु शास्त्र सिद्धांतों के आधार पर किए गए थे।

  1. अश्व (घोड़ा): दक्षिणी प्रवेश द्वार पर स्थित, सतर्क घोड़ा सहनशक्ति, शक्ति, शक्ति और गति का प्रतीक है, जो शासन की गुणवत्ता को दर्शाता है।
  2. गरुड़ (ईगल जैसा पक्षी): गरुड़ पूर्वी औपचारिक प्रवेश द्वार पर खड़ा है, जो लोगों और देश के प्रशासकों की आकांक्षाओं का प्रतिनिधित्व करता है। वास्तु शास्त्र में, पूर्व दिशा को उगते सूरज से जोड़ा गया है, जो आशा, जीत और सफलता का प्रतीक है।
  3. मकर (पौराणिक जलीय जीव): विभिन्न जानवरों की विशेषताओं का संयोजन, मकर देश के लोगों के बीच विविधता में एकता का प्रतीक है।
  4. शार्दुला (पौराणिक प्राणी): सभी जीवित प्राणियों में सबसे शक्तिशाली माना जाने वाला शार्दुला देश के लोगों की ताकत का प्रतीक है।
  5. हम्सा (हंस): पूर्वोत्तर के सार्वजनिक प्रवेश द्वार पर स्थित, हम्सा देश के लोगों में ज्ञान से पैदा होने वाले विवेक और आत्म-बोध की आवश्यक गुणवत्ता पर प्रकाश डालता है।

Entrances of India’s New Parliament 2 (1)

औपचारिक प्रवेश द्वार

  • इनमें से तीन प्रवेश द्वारों को औपचारिक प्रवेश द्वार के रूप में डिज़ाइन किया गया है, जिसका उद्देश्य विशेष मेहमानों का स्वागत करना और महत्वपूर्ण घटनाओं को चिह्नित करना है।
  • ये प्रवेश द्वार भारतीय कला, संस्कृति, लोकाचार और देशभक्ति को प्रदर्शित करते हैं।
  • इन्हें क्रमशः ज्ञान, शक्ति और कर्म नाम दिया गया है, जो क्रमशः भारतीय ज्ञान प्रणाली, देशभक्ति और कलात्मक परंपराओं का प्रतिनिधित्व करते हैं

स्रोत – द हिन्दू

Download Our App

More Current Affairs

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities