भारतीय रिजर्व बैंक – डिजिटल भुगतान सूचकांक जारी किया गया

भारतीय रिजर्व बैंक – डिजिटल भुगतान सूचकांक जारी किया गया

हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने देश में डिजिटल भुगतान के बारे में जानने के लिए डिजिटल भुगतान सूचकांक (Digital Payments Index -DPI) जारी किया है।

इस इंडेक्स की गणना पांच मापदंडों के आधार पर की जाती है, जैसे पेमेंट एनेबलर्स, कंज्यूमर सेंट्रिकिटी, डिमांड साइड पर पेमेंट इंफ्रास्ट्रक्चर और सप्लाई साइड पर पेमेंट इंफ्रास्ट्रक्चर।

इस सूचकांक की गणना 2018 को आधार अवधि के रूप में की जाती है।

भारत में 2023 DPI 377.46 है। 2022 में यह 349.30 और 2021 में 304.06 था। इसके साथ, RBI ने निष्कर्ष निकाला कि देश में डिजिटल भुगतान में 24.13% की वृद्धि हुई है।

मुख्य बिंदु

UPI- एकीकृत भुगतान इंटरफेस में 1.3% की वृद्धि हुई।

UPI एक बहु-बैंक खाता प्रणाली है। यह धन हस्तांतरण 24/7, व्यापारी भुगतान, संग्रह, दान, उपयोगिता बिल भुगतान, क्यूआर कोड-आधारित भुगतान आदि की अनुमति देता है।

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम के माध्यम से किए गए लेनदेन में 2.6% की वृद्धि हुई। NPCI ने वित्तीय वर्ष 2023 में 6,752 करोड़ से अधिक के लेनदेन की प्रोसेसिंग की।

2022 में, इस प्लेटफार्म ने 7,404 करोड़ के लेनदेन किए।

भारत में फिनटेक अपनाने की दर बढ़कर 87% हो गई। वैश्विक स्तर पर यह 64% थी।

डिजिटल भुगतान सूचकांक (DPI) :

DPI की गणना में निम्नलिखित पैरामीटर का उपयोग किया जाता है:

भुगतान सक्षम करने वाले (payment enablers) इंटरनेट, व्यापारी, आधार, मोबाइल, बैंक खाते हैं।

मांग पक्ष पर भुगतान अवसंरचना डेबिट कार्ड, फास्टैग, मोबाइल और इंटरनेट बैंकिंग के साथ पंजीकृत ग्राहक, प्रीपेड भुगतान उपकरण, क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड हैं।

आपूर्ति पक्ष पर भुगतान अवसंरचना बैंक शाखाएं, एटीएम, क्यूआर कोड, बिचौलिये, पीओएस टर्मिनल, व्यापार प्रतिनिधि हैं।

भुगतान प्रदर्शन नकद निकासी, प्रचलन में मुद्रा, पेपर समाशोधन, अद्वितीय उपयोगकर्ता हैं।

उपभोक्ता केंद्रित शिकायतें, जागरूकता, शिक्षा, गिरावट, सिस्टम डाउनटाइम हैं।

स्रोत – द हिन्दू

Download Our App

More Current Affairs

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities