ह्यूमन पैरा इन्फ्लूएंजा वायरस (Human Para Influenza Viruses- HPIV)

ह्यूमन पैरा इन्फ्लूएंजा वायरस (Human Para Influenza Viruses- HPIV) क्या है?

हाल ही में वैज्ञानिकों ने ह्यूमन पैरा इन्फ्लूएंजा वायरस (Human Para Influenza Viruses-HPIV)के अटैचमेंट को ब्लॉक करने का एक नया तरीका खोज लिया है।

ह्यूमन पैरा इन्फ्लूएंजा वायरस (HPIV)

  • HPIV बचपन में होने वाले श्वसन संक्रमण (respiratory infections) का प्रमुख कारक है।इससे बच्चों की अकसर मौत तक हो जाती है ,इस बीमारी के कारण 30 से 40 प्रतिशत से अधिक बच्चे मर जाते हैं।
  • HPIV कोशिकाओं में चिपक कर कोशिकाओं में आनुवंशिक पदार्थों को इंजेक्ट करता है।ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि इंजेक्शन वाली आनुवंशिक सामग्री नए वायरस बनाना शुरू कर दे।
  • वैज्ञानिकों ने अब इस प्रविष्टि को अवरुद्ध करने का एक तरीका खोज लिया है।यह विधि HPIV-3 को अवरुद्ध करने में अत्यधिक कुशल है।

HPIV को कैसे अवरुद्ध किया जाता है ?

  • यह वायरस एक विशेष संलयन प्रोटीन (specialised fusion proteins) का उपयोग करता है, जो मानव कोशिकाओं में प्रवेश करने के लिए तीन तरफा कॉर्कस्क्रू (corkscrew) जैसा दिखता है।
  • पहले कोलेस्ट्रॉल और बीटा अमीनो एसिड, HPIV को ब्लॉक करने के लिए उपयोगी पाए गए थे।हालांकि, वे कुशल नहीं थे।वैज्ञानिकों ने अब कोलेस्ट्रॉल और बीटा अमीनो एसिड को मिलाकर एक नया पेप्टाइड बनाया है।
  • जेलमैन लैब (Gellman lab) ने पाया कि पेप्टाइड्स युक्त संशोधित बीटा अमीनो एसिड वायरस को ब्लॉक कर सकता है।
  • मोसकोनाप्रोटो लैब (Moscona Protto lab) ने पहले पेप्टाइड को कोलेस्ट्रॉल के एक कण के साथ जोड़ दिया था।इसने एक चिकनी कोशिका झिल्ली बनाई, जिसने वायरस को अवरुद्ध कर दिया था।
  • जब उपरोक्त दो विधियां को मिलाया गया, तो एंटी-वायरल प्रभावकारिता तीन गुना हो गई।

पेप्टाइड्स (Peptides)

  • पेप्टाइड्स अमीनो एसिड की छोटी श्रृंखला है।वे पेप्टाइडबॉन्ड के अनुक्रम में एक दूसरे के साथ जुड़ी होती हैं।वे कम लंबाई के प्रोटीन से अलग होते हैं। पेप्टाइड्स मानव शरीर को रोगाणुओं से लड़ने में मदद करते हैं।

इन्फ्लुएंजा

  • इन्फ्लुएंजा एक तरह का वायरस है, जो जीवित कोशिकाओं के भीतर ही अपना विकास एवं प्रजनन करता है।
  • ‘विषाणु’ खुद को जीवित रखने एवं अपनी प्रतिकृति तैयार करने हेतु जीवित कोशिकाओं पर आक्रमण करते हैं तथा उनकी रासायनिक मशीनरी का उपयोग करते हैं।
  • इन्फ्लुएंजा फ्लू हमारे श्वसन तंत्र का एक अत्यंत संक्रामक रोग होता है। यह फ्लू तीन प्रकार का होता है, ए,बी,सी।
  • इनमें से ए और बी इन्फ्लुएंजा का कारण बनता है, जबकि टाइप सी भी फ्लू के लक्षणों को दर्शाता है, लेकिन इस तरह का फ्लू कम देखने को मिलता है।
  • इन्फ्लुएंजा वायरस हमारे शरीर में नाक,आंख और मुंह द्वारा प्रवेश करता है। साथ ही ये एक से दूसरे व्यक्ति में खांसने, छींकने या उसके संपर्क में रहने से फैल जाता है।

स्रोत – द हिन्दू

Download Our App

More Current Affairs

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities