हिंद-प्रशांत आर्थिक ढांचे (IPEF)

हिंद-प्रशांत आर्थिक ढांचे (IPEF)

हाल ही में भारत द्वारा नई दिल्ली में हिंद-प्रशांत आर्थिक ढांचे (Indo-Pacific Economic Framework for Prosperity: IPEF) के लिए विशेष दौर की वार्ता का आयोजन किया गया है।

  • इस दौर में IPEF के द्वित्तीय स्तंभ (आपूर्ति श्रृंखला / Supply Chains), तृतीय स्तम्भ (स्वच्छ अर्थव्यवस्था/Clean Economy) और चतुर्थ (निष्पक्ष अर्थव्यवस्था / Fair Economy) पर चर्चा हुई।
  • केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री ने हिंद-प्रशांत आर्थिक ढांचे (IPEF) में भागीदार देशों से दौरे पर आए प्रतिनिधियों के लिए एक स्वागत समारोह की मेजबानी की।
  • ध्यातव्य है कि दिसंबर 2022 में ब्रिस्बेन, ऑस्ट्रेलिया में पिछले दौर के दौरान हुई चर्चाओं के आधार पर नई दिल्ली में तीन स्तंभों की गहन परिपत्र-आधारित चर्चाएँ आयोजित की गईं।
  • IPEF के भागीदार नए विचारों और प्रतिक्रियाओं के सार्थक आदान-प्रदान में लगे हुए हैं और तीन स्तंभों में से प्रत्येक में आगे की प्रगति करने के लिए भविष्य में सघनता से काम करना जारी रखने पर सहमत हुए हैं।

इंडो-पैसिफिक इकोनॉमिक फ्रेमवर्क (IPEF)

  • अमेरिका के नेतृत्व में भारत और 11 अन्य देशों ने 23 मई, 2022 को टोक्यो में इंडो-पैसिफिक इकोनॉमिक फ्रेमवर्क (Indo-Pacific Economic Framework: IPEF) लॉन्च किया था।
  • वर्तमान में इस समूह में ऑस्ट्रेलिया, ब्रुनेई, भारत, इंडोनेशिया, जापान, कोरिया गणराज्य, मलेशिया, न्यूजीलैंड, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड, अमेरिका और वियतनाम शामिल हैं।
  • IPEF उच्च-मानक प्रतिबद्धताओं को स्थापित करने के लिए चार प्रमुख स्तंभों पर ध्यान केंद्रित करेगा जो इस क्षेत्र में इन देशों के आर्थिक जुड़ाव को गहरा करेंगे।
  • ये चार प्रमुख स्तंभ हैं : कनेक्टेड इकोनॉमी, रेजिलिएंट इकोनॉमी, क्लीन इकोनॉमी और फेयर इकोनॉमी

स्रोत – पी.आई.बी.

Download Our App

More Current Affairs

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities