Print Friendly, PDF & Email

सितम्बर में आयोजित होगा संयुक्त राष्ट्र खाद्य प्रणाली शिखर सम्मेलन 2021

सितम्बर में आयोजित होगा संयुक्त राष्ट्र खाद्य प्रणाली शिखर सम्मेलन 2021

हाल ही में, संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने सितंबर 2021 में होने वाले संयुक्त राष्ट्र खाद्य प्रणाली शिखर सम्मेलन के पहले आयोजन की घोषणा की है।

मुख्य बिंदु:

  • इसका लक्ष्य 2030 के सतत विकास लक्ष्यों की अवधारणा को साकार करने के लिए दुनिया के कृषि-खाद्य प्रणालियों में सकारात्मक बदलाव के लिए रणनीति तैयार करना है।
  • शिखर सम्मेलन राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर खाद्य प्रणालियों को आकार देने के तरीकों पर ध्यान केंद्रित करेगा, ताकि सतत विकास के लक्ष्य की दिशा में प्रगति में तेजी आए।
  • समिट -2021 में, निम्नलिखित 5 कार्य रणनीतियों (एक्शन ट्रैक) पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा।
  • सुरक्षित और पौष्टिक भोजन
  • टिकाऊ खपत पैटर्न
  • प्रकृति के अनुकूल उत्पादन
  • अग्रिम निष्पक्ष आजीविका
  • कमजोरियों, संघर्ष और तनाव के प्रति लचीलापन
  • COVID- 19 के कारण भोजन और संबंधित प्रणाली में, मानवता द्वारा सामना की जाने वाली भेद्यता और चुनौतियांने उत्पादन, वितरण और खपत को कवर करने वाले संपूर्ण कृषि-खाद्य प्रणालियों के लिए विशिष्ट फसल या खेती प्रणालियों से परे, हमारे कार्यों और रणनीतियों पर फिर से विचार करने की आवश्यकता को और बढ़ा दिया है।
  • विदित हो कि विश्व की लगभग 18 प्रतिशत जनसंख्या वाला भारत इस खाद्य प्रणाली शिखर सम्मेलन में सर्वोपरि देश है।इसलिए भारत ने एक्शन ट्रैक 4, जो किअग्रिम निष्पक्ष आजीविका ( एडवांस इक्विटेबल लाइवलीहुड)है, के लिए वालंटियर घोषित किया है।
  • इस प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए, सरकार ने प्रोफेसर रमेश चंद, (सदस्य, NITI आयोग) के नेतृत्व में एक उच्च-स्तरीय विभागीय समूह बनाया है, जिसमें ग्रामीण विकास और अन्य मंत्रालयों के प्रतिनिधि शामिल हैं।
  • इसका मुख्य उद्देश्य भारत में एक सतत और न्यायसंगत खाद्य प्रणाली बनाने की दिशा में राष्ट्रीय रणनीतियों का पता लगाने के लिए कृषि-खाद्य प्रणालियों के सभी हितधारकों के साथ एक राष्ट्रीय संवाद स्थापित करना है।
  • भारत में पहली बार, राष्ट्रीय स्तर पर एग्री-फूड सिस्टम-इम्प्रूव्ड लाइवलीहुड पर संवाद 12 अप्रैल 2021 को दिल्ली में आयोजित किया गया था। सम्मेलन में किसान संगठनों, नागरिक समाज संगठनों, किसान उत्पादक संगठनों, अनुसंधान संस्थानों और अन्य सरकारी एजेंसियों ने भाग लिया।

खाद्य प्रणालीका अर्थ

खाद्य प्रणाली से तात्पर्य खाद्य पदार्थों के उत्पादन, प्रसंस्करण, परिवहन और उपभोग से है। बेहतर भोजन प्रणाली का हमारे स्वास्थ्य के साथ-साथ हमारे पर्यावरण, अर्थव्यवस्थाओं और संस्कृतियों पर भी गहरा प्रभाव पड़ता है।

स्रोत – पीआईबी

Download Our App

MORE CURRENT AFFAIRS

Open chat
1
Youth Destination IAS . PCS
To get access
- NCERT Classes
- Current Affairs Magazine
- IAS Booklet
- Complete syllabus analysis
- Demo classes
https://online.youthdestination.in/