शिमला समझौता 1972 और लाहौर घोषणा-पत्र 1999

Question – शिमला समझौता (1972) और लाहौर घोषणा-पत्र (1999) भारतीय उपमहाद्वीप के इतिहास में दो महत्वपूर्ण उपलब्धियां हैं। चर्चा कीजिए। – 19 November 2021

उत्तर –

भारतीय उपमहाद्वीप में कश्मीर के मुद्दे ने भारत और पाकिस्तान को स्वतंत्रता के तुरंत बाद ही युद्ध के साथ संघर्ष की आग में धकेल दिया। जिसके फलस्वरूप वर्ष  1965 और 1971 का रक्तरंजित युद्ध हुआ। संघर्ष के बीच दोनों पक्षों के बीच शांति की आशा में कुछ समझौते किए गए। इस संदर्भ में शिमला समझौता और लाहौर घोषणा अभी भी सबसे महत्वपूर्ण रूपरेखा है। दोनों समझौतों में निहित शर्तों के विभिन्न दूरगामी प्रभावों के कारण ये दोनों समझौते महत्वपूर्ण और प्रासंगिक बने हुए हैं।

1971 के भारत-पाक युद्ध के बाद शिमला समझौते (1972) में शामिल निम्नलिखित शर्ते:

  • 7 दिसंबर 1971 की युद्धविराम रेखा को नियंत्रण रेखा (LOC) में बदल दिया गया था, और यह प्रावधान किया गया कि दोनों पक्ष आपसी मतभेदों और कानूनी व्याख्याओं के बावजूद इसे बदलने का एकतरफा प्रयास नहीं करेंगे।
  • प्रत्यक्ष द्विपक्षीय दृष्टिकोण के माध्यम से सभी मुद्दों के शांतिपूर्ण समाधान के लिए एक पारस्परिक प्रतिबद्धता स्थापित करना
  • एक दूसरे की राष्ट्रीय एकता, क्षेत्रीय अखंडता, राजनीतिक स्वतंत्रता और संप्रभु समानता का सम्मान।
  • सैनिकों को वापस बुलाना, और युद्ध बंदियों (Pows) का आदान-प्रदान करना।
  • संबंधों को आघात पहुंचाने वाले संघर्ष और टकराव को समाप्त करना, तथा मैत्रीपूर्ण एवं सौहार्दपूर्ण संबंधों के प्रोत्साहन हेतु कार्य करना।

इस प्रकार, शिमला समझौते ने द्विपक्षीय वार्ता को दोनों देशों के बीच मतभेदों को सुलझाने के लिए पसंदीदा ढांचे के रूप में स्थापित किया। इसने इस संघर्ष में भारत और पाकिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सैन्य पर्यवेक्षक समूह (यूएनएमओजीआईपी) की भूमिका को प्रभावी ढंग से समाप्त कर दिया।

भारत ने अक्सर कश्मीर मुद्दे में किसी तीसरे पक्ष के हस्तक्षेप को खारिज करने के लिए समझौते का हवाला दिया है। उदाहरण के लिए, भारत ने इस मुद्दे पर मध्यस्थता करने के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति द्वारा हाल ही में किए गए एक प्रस्ताव को ठुकरा दिया है।

लाहौर घोषणा 1999 में निम्नलिखित शर्तें सम्मिलित हैं:

  • सुरक्षा के परमाणु आयाम को पहचानना और किसी भी संघर्ष से बचने की जिम्मेदारी लेना।
  • संयुक्त राष्ट्र के सिद्धांतों और शांतिपूर्ण सहअस्तित्व के लिए प्रतिबद्ध।
  • परमाणु निरस्त्रीकरण और अप्रसार के उद्देश्यों के प्रति प्रतिबद्धता।
  • शिमला समझौते का अक्षरश: क्रियान्वयन।
  • आंतरिक मामलों में आतंकवाद और आपसी गैर-हस्तक्षेप का मुकाबला करने का संकल्प।

लाहौर घोषणा, ऐतिहासिक लाहौर शिखर सम्मेलन के बाद हस्ताक्षरित, एक ऐसे समय में आई थी जब दोनों देशों ने परमाणु हथियार क्षमता हासिल कर ली थी और दोनों देशों के मध्य परमाणु युद्ध के लिए किसी भी संघर्ष के विषय में असहजता बढ़ रही थी। इसने दोनों देशों के बीच ऐतिहासिक रूप से तनावपूर्ण द्विपक्षीय संबंधों पर नियंत्रण करने में एक बड़ी सफलता का संकेत दिया। यह सहमति द्विपक्षीय एजेंडे के शुरुआती और सकारात्मक परिणाम के लिए भारत और पाकिस्तान की समग्र और एकीकृत बातचीत प्रक्रिया को तीव्र करने के लिए था। हालांकि, कारगिल संघर्ष के प्रारंभ ने समझौते द्वारा निर्धारित संदर्भ के तत्काल समेकन को रोक दिया। बहरहाल, दो परमाणु सक्षम पड़ोसियों के संदर्भ में संबंधित सिद्धांत प्रासंगिक रहे हैं। इस प्रकार, 1972 का शिमला समझौता और 1999 का लाहौर घोषणा भारतीय उपमहाद्वीप के लिए आज भी प्रासंगिक और महत्वपूर्ण बना हुआ है।

Download our APP – 

Go to Home Page – 

Buy Study Material – 

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities