राजस्थान ने म्यूकोर्मिकोसिस (Mucormycosis) को अधिसूचित रोग (Notified Diseases) घोषित किया

राजस्थान ने म्यूकोर्मिकोसिस (Mucormycosis) को अधिसूचित रोग (Notified Diseases)  घोषित किया

  • हाल ही में राजस्थान महामारी अधिनियम, 2020 के तहत म्यूकोर्मिकोसिस (Mucormycosis or black fungus) नामक एक बीमारी को अधिसूचित रोग (Notified Diseases) घोषित किया गया है।
  • वस्तुतः स्वास्थ्य राज्य का विषय है, इसलिए राज्य सरकारों को किसी बीमारी को अधिसूचित रोग घोषित करने का अधिकार है। हालांकि, केंद्र सरकार अधिसूचित रोगों की एक सूची रखती है।
  • पिछले कुछ माह से राजस्थान में इस बीमारी के मामलों की संख्या लगातार बढ़ रही है। यह बीमारी मुख्य रूप से कोविड -19 से ठीक होने वाले व्यक्तियों को प्रभावित करती है।
  • विदित हो कि इससे पहले ब्लैक फंगस रोग को हरियाणा में अधिसूचित बीमारी (Notified Diseases) के रूप में अधिसूचित किया था।

अधिसूचित रोग

  • ऐसी बीमारी जिसके होने की सूचना कानूनी तौर पर सरकार को देनी आवश्यक हो जाती है। राजस्थान में ब्लैक फंगस रोग (Black Fungus Disease) बीमारी को महामारी घोषित करने से इस बीमारी से पीड़ित प्रत्येक मामले के बारे में सरकारी अधिकारियों को सूचित करना होगा।

बीमारी को “अधिसूचितश्रेणी” में रखने से लाभ

  • डॉक्टरों को अपने मरीजों में बीमारी के होने की सूचना जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को देनी होती है। ताकि अधिकारियों को बीमारी के प्रसार की जानकारी एकत्र करने, बीमारी की निगरानी करने और प्रारंभिक चेतावनियां निर्धारित करने में मदद करेगा।

अधिसूचित रोग पर डब्ल्यूएचओ (WHO on Notifiable/Notified Diseases)

  • डब्ल्यूएचओ अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य विनियम (WHO International Health Regulations), 1969 ने रोग रिपोर्टिंग को अनिवार्य बना दिया है। इससे WHO को उसकी वैश्विक निगरानी और सलाहकार की भूमिका में मदद मिलेगी। वर्तमान में यह सूची केवल तीन मुख्य रोगों अर्थात् पीला बुखार, हैजा और प्लेग तक सीमित है।

अधिसूचित रोग पर पशु स्वास्थ्य के लिए विश्व संगठन (World Organisation for Animal Health- OIE )

  • यह संगठन वैश्विक स्तर पर पशुओं के रोगों की निगरानी करता है। यह भी उल्लेखनीय बीमारियों की एक सूची रखता है।

भारत में अधिसूचित रोगों की सूची

  • रेबीज, विटामिन ए की कमी, टाइफाइड, स्कार्लेट ज्वर, पोलियो, सेरेब्रो स्पाइनल फीवर, एड्स, हेपेटाइटिस बी, डेंगू बुखार, मलेरिया, काली खांसी, एनीमिया, खसरा,कुष्ठ, हेपेटाइटिस, हैजा, आयोडीन की कमी, कुपोषण, तपेदिक, चेचक प्लेग, खसरा, इन्फ्लूएंजा, डिप्थीरिया, चिकन पॉक्स।

स्रोत : द हिन्दू

Download Our App

More Current Affairs

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities