यदि पारंपरिक भारतीय समाज के हृदय को सामंजस्यपूर्ण तरीके से अटल बनाने वाला कोई बल है, जिसने सदियों से शक्तिशाली बल के रूप में, हमारे समृद्ध, सामाजिक चित्र यवनिका के ताने-बाने को विविधतापूर्ण तरीके से बुना है, वह हमारी परिवारिक प्रणाली है।उपयुक्त उदाहरणों के साथ इस कथन को प्रतिस्थापित करें।

Print Friendly, PDF & Email

Upload Your Answer Down Below 

प्रश्न: यदि पारंपरिक भारतीय समाज के हृदय को सामंजस्यपूर्ण तरीके से अटल बनाने वाला कोई बल है, जिसने सदियों से शक्तिशाली बल के रूप में, हमारे समृद्ध, सामाजिक चित्र यवनिका के ताने-बाने को विविधतापूर्ण तरीके से बुना है, वह हमारी परिवारिक प्रणाली है।उपयुक्त उदाहरणों के साथ इस कथन को प्रतिस्थापित करें। – 1 April

उत्तर:

  • भारतीय समाज में परिवार, अपने आप में एक संस्था है और साथ ही प्राचीन काल से भारत की सामूहिक संस्कृति का एक विशिष्ट प्रतीक भी।
  • संयुक्त परिवार प्रणाली या एक विस्तारित परिवार, भारतीय संस्कृति की एक महत्वपूर्ण विशेषता रही है, जब तक कि शहरीकरण और पश्चिमी प्रभाव का मिश्रण, घर और चूल्हे को प्रभावित नहीं करने लगा।यह शहरी क्षेत्रों के लिए विशेष रूप से सत्य है, जहां परमाणु/एकाकी परिवार आज के समय का रिवाज़ बन गए हैं।इस तथ्य से कोई इनकार नहीं है कि, सामाजिक-आर्थिक कारकों ने संयुक्त परिवार प्रणाली को कमजोर करने में अपनी भूमिका निभाई है।
  • वर्तमान जीवनशैली, सांस्कृतिक मूल्यों, परंपराओं और रीति-रिवाजों के संरक्षण में संयुक्त या विस्तारित परिवार प्रणाली द्वारा निभाई गई महत्वपूर्ण भूमिका को गंभीर नुकसान पहुंचा रही है, जो पीढ़ी-दर-पीढ़ी चलती ही आ रही है।यद्धपि, भारतीय लोग, डी.एन.ए में ‘वसुधैव-कुटुम्बकम’ की अवधारणा निहित होने के कारण विशेष स्तिथि में हैं,यह हमारा कर्तव्य है कि हम अपनी उत्तरवर्ती पीढ़ियों को अपने सामूहिक प्राचीन ज्ञान को हस्तांतरित करें।
  • स्पष्ट रूप से, संयुक्त परिवार प्रणाली और परमाणु परिवारों – दोनों के फायदे और अवगुण हैं, इसलिए आज के युवा शायद यह सोचते हैं कि वे दो परस्पर विरोधी दुनिया के बीच फंस गए हैं और कई बार भ्रमित भी हो सकते हैं। फिर भी परिवार प्रणाली ने व्यक्तिगत और सामूहिक रूप से उत्थान में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन किया है –

परिवार की प्रकृति (विशिष्ट विशेषताएं):

  • सार्वभौमिकता: परिवार समाज के प्रत्येक चरण में और हर जगह पाया जाता है। परिवार के बिना कोई समाज संभव नहीं होता।
  • भावनात्मक आधार: एक भावनात्मक सम्बन्ध होना चाहिए – प्रेम, स्नेह, सहानुभूति, सहयोग। यदि ऐसा कोई आधार नहीं है तो परिवार टूट जाता है।
  • समाज में केन्द्रीय स्थिति: परिवार एक प्राथमिक समूह है और समाज की मूलभूत इकाई है। यह समाज की प्राथमिक कोशिका है। समाज परिवारों का एकत्रीकरण है।
  • जिम्मेदारी की भावना: परिवार का कार्य बच्चों की आर्थिक जरूरतों को पूरा करना है। परिवार के बच्चों की देखभाल करना माता-पिता की जिम्मेदारी है।
  • सामाजिक नियंत्रण: परिवार सामाजिक नियंत्रण का एक तंत्र है। यदि आप अच्छे का अनुसरण करते हैं तो आपकी प्रशंसा की जाती है अन्यथा आपको दंडित किया जाता है। इससे आपको लगता है कि आपको अच्छे से संबंधित होना चाहिए और जब आप बड़े होते हैं तो आप समाज के अच्छाई से संबंधित होते हैं।

संयुक्त परिवार के लाभ:

  • संयुक्त परिवार प्रणाली का एक मुख्य लाभ यह है कि यह बच्चों में सुरक्षा की भावना प्रदान करते हुए भाई-बहन और परिवार के अन्य सदस्यों के बीच मजबूत संबंध बनाता है।
  • ऐसा माना जाता है कि बच्चे, जो दादा-दादी, चाची, चाचा और चचेरे भाई के साथ एक विस्तारित परिवार में बड़े होते हैं, साझा करने, देखभाल करने, सहानुभूति और समझ के गुणों को आत्मसात करेंगे।यह उन बच्चों के मामले में हमेशा नहीं हो सकता है, जो एक परमाणु/एकाकी परिवार में बड़े होते हैं, हालांकि इस बात का सामान्यीकरण नहीं किया जा सकता |
  • जुड़ाव और अच्छा स्वभाव, जो संयुक्त परिवार का मूल तत्व है , बच्चों के भावनात्क बुद्दिमत्ता को धनात्मक रूप से प्रभावित करता है |
  • लोगों के दृष्टिकोण को आकार देने में पारिवारिक मूल्य महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।बड़ों के प्रति सम्मान और देखभाल, भारतीय परिवार प्रणाली में केंद्रीय सिद्धांतों में से एक हैं।आमतौर पर भारत में, बुजुर्गों को ज्ञान और बुद्धिमत्ता के स्त्रोत के रूप में देखा जाता है।
  • संयुक्त परिवार का छोटी इकाइयों में विभाजन, लोगों द्वारा इस पारंपरिक संरचना को महत्व न देने के कारण उत्पन्न नहीं हुआ है , बल्कि परिस्थितियों ने परिवार को विभाजित करने की आवश्यकता बना दी है|
  • बड़ों की देखभाल के माध्यम से युवा की अवांछनीय और असामाजिक प्रवृत्ति की जाँच की जाती है और उन्हें भटकने से रोका जाता है। वे आत्म-नियंत्रण करना सीखते हैं।
  • यह बलिदान, स्नेह, सहयोग, निस्वार्थता की भावना, अपने सदस्यों के बीच व्यापकता जैसे महान गुणों को बढ़ावा देता है और परिवार को सामाजिक गुणों का एक आदर्श बनाता है।
Open chat
1
Youth Destination IAS . PCS
To get access
- NCERT Classes
- Current Affairs Magazine
- IAS Booklet
- Complete syllabus analysis
- Demo classes
https://online.youthdestination.in/