प्रश्न – समावेशी विकास’ की मुख्य विशेषताएं क्या हैं? क्या भारत इस तरह की विकास प्रक्रिया से गुजर रहा है? समावेशी विकास के उपायों का विश्लेषण और सुझाव दें।

Upload Your Answer Down Below 

प्रश्न – समावेशी विकास’ की मुख्य विशेषताएं क्या हैं? क्या भारत इस तरह की विकास प्रक्रिया से गुजर रहा है? समावेशी विकास के उपायों का विश्लेषण और सुझाव दें। – 23 April 

उत्तर – 

समावेशी विकास ऐसी अवधारणा है, जिसमें समाज के सभी लोगों को समान अवसर के साथ विकास का लाभ भी एकसमान रूप से प्राप्त हो, अर्थात सभी वर्ग, क्षेत्र के व्यक्तियों का बिना किसी भेदभाव, एकसमान विकास के अवसरों के साथ-साथ होने वाला देश का विकास, समावेशी विकास कहलाता है।समावेशी विकास एक ऐसी प्रक्रिया को संदर्भित करता है जिसमें सभी लोग (गरीब और अमीर), सभी भौगोलिक और अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों (कृषि, उद्योग और सेवाएं) देश के आर्थिक विकास में समान रूप से योगदान करते हैं।

भारत में सरकार द्वारा समावेशी विकास को बल प्रदान करते हुए,11वीं पंचवर्षीय योजना में इसको सम्मिलित किया गया। विकास को और अधिक धारणीय एवं समावेशी बनाने के उद्देश्य से, इसे 12वीं पंचवर्षीय योजना के लक्ष्य में “तीव्र, धारणीय और अधिक समावेशी विकास” को रखा गया। नियोजन में, यह सुनिश्चित किया गया कि जनसंख्या के बड़े वर्गों को मुख्य रूप से किसानों, अनुसूचित जातियों / जनजातियों और अन्य पिछड़े वर्गों को आर्थिक और सामाजिक समानता प्रदान की जाए।इसलिए, केंद्र में समावेशी विकास को ध्यान में रखते हुए, योजनाओं में उच्च आर्थिक विकास दर से प्राप्त लाभों का संवितरण शामिल है।

पीपीपी मॉडल के आधार पर भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है, लेकिन अगर हम प्रति व्यक्ति आय को ध्यान में रखें तो भारत दुनिया में 139 वें (आईएमएफ) स्थान पर है।विश्व आर्थिक मंच द्वारा जारी “समावेशी विकास सूचकांक” में भारत 62 वें स्थान पर है, और आर्थिक रूप से पिछड़े देश, नेपाल (22 वां), पाकिस्तान (47 वां), भारत से बेहतर स्थिति में है।इसलिए, यह कहना सही होगा कि भारत ने पिछले कुछ दशकों में उच्च आर्थिक विकास किया है, लेकिन समावेशी विकास अपेक्षित गति से नहीं हुआ है।

समावेशी विकास किसी भी देश के आर्थिक और सामाजिक विकास के लिए वांछनीय है। समावेशी विकास की अनुपस्थिति में, निम्नलिखित प्रभाव दिखाई देते हैं-

  • यदि विकास समावेशी नहीं है, तो यह संधारणीय नहीं हो जाता है और धीरे-धीरे अर्थव्यवस्था ध्वस्त होने लगती है।
  • आय के असंतुलित वितरण से धन का संकेंद्रण कुछ लोगों के पास तक सिमित रह जाएगा, परिणामस्वरूप मांग में कमी आएगी जो GDP की वृद्धि दर को कम कर देगी।
  • गैर-समावेशी विकास से विभिन्न भागों में असमानता बढ़ती है, जो वंचितों को और अधिक वंचित करती है।
  • समावेशी विकास का अभाव समाज के कुछ वर्गों और देश के भौगोलिक क्षेत्रों में असंतोष का कारण बनता है, जिसके परिणामस्वरूप साम्प्रदायिकता, क्षेत्रीयता जैसी विघटनकारी प्रवृत्तियाँ होती हैं।

प्रधान मंत्री ग्राम सड़क योजना, मुद्रा योजना, किसान क्रेडिट कार्ड (KCC), प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, – स्वास्थ्य, शिक्षा, खाद्य सुरक्षा, बिजली, स्वच्छ पानी एवं आवास जैसी आधारभूत आवश्यक वस्तुओं तक सबकी पहुँच सुनिश्चित करना, गरीब बीपीएल परिवारों को दीन दयाल उपाध्याय ज्योति योजना, उज्जवला योजना से एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराना आदि, समावेशी विकास के कुछ उल्लेखनीय प्रयास हैं। 

यदि हम उपरोक्त विश्लेषण पर ध्यान दें, तो हम पाते हैं कि भारत समावेशी विकास के मुद्दे पर कुछ पिछड़ा हुआ है। देश को 5 ट्रिलियन और उससे आगे की स्थिति में ले जाने से पहले, यह इस तथ्य पर विचार करने योग्य है कि समाज के सभी वर्गों का एक समान विकास सुनिश्चित है।भारत सरकार के साथ-साथ राज्य सरकारों और स्थानीय सरकारों को गरीबी उन्मूलन और भारत के लोगों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए सतत विकास प्राप्त करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए, साथ ही समावेशी विकास के माध्यम से कमजोर और सीमांत आबादी के सशक्तीकरण, महिलाओं की आजीविका में सुधार और कौशल निर्माण में मदद मिलेगी।

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities