प्रश्न – मार्टिन लूथर किंग के कथन “अहिंसा दासत्व जैसी निष्क्रियता नहीं है बल्कि एक शक्तिशाली नैतिक बल है जो सामाजिक परिवर्तन में मदद करता है।” क्या आप सहमत हैं?

Print Friendly, PDF & Email

Upload Your Answer Down Below 

Question – मार्टिन लूथर किंग के कथन “अहिंसा दासत्व जैसी निष्क्रियता नहीं है बल्कि एक शक्तिशाली नैतिक बल है जो सामाजिक परिवर्तन में मदद करता है।” क्या आप सहमत हैं? – 25 April 

उत्तर – 

  • अहिंसा, या अहिंसा के सिद्धांत का सामाजिक और राजनीतिक अन्याय का सामना करने के साधन के रूप में व्यापक प्रभाव पड़ा है। मोहनदास गांधी ने भारत को ब्रिटिश साम्राज्यवाद से मुक्त करने के लिए अहिंसक नागरिक अवज्ञा को सफलतापूर्वक नियोजित किया|मार्टिन लूथर किंग ने संयुक्त राज्य अमेरिका में भेदभावपूर्ण कानूनों के खिलाफ नागरिक अधिकार आंदोलन में अहिंसक प्रतिरोध का इस्तेमाल किया। दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद को समाप्त करने में अहिंसा का सिद्धांत भी महत्वपूर्ण था। विश्व स्तर पर, अहिंसक प्रतिरोध को नियमित रूप से सामाजिक और राजनीतिक परिवर्तन और क्रूर टकराव के विकल्प के विरोध में शांतिपूर्ण साधन के रूप में नियोजित किया जाता है।
  • उपर्युक्त कथन डॉ मार्टिन लूथर किंग द्वारा 1964 के अपने नोबेल पुरस्कार स्वीकृति भाषण में प्रयुक्त किया गया था। उन्होंने सामाजिक परिवर्तन में अहिंसा की क्षमता को स्वीकार किया, क्योंकि यह समय-समय पर उठाए जाने वाले महत्वपूर्ण राजनीतिक और नैतिक प्रश्नों का उत्तर प्रदान करती है।
  • अहिंसा प्रत्येक परिस्थिति में स्वयं को और दूसरों को हानि न पहुँचाने का व्यक्तिगत प्रयास है। परन्तु किसी भी अर्थ में, इसका आशय निष्क्रियता या अकर्मण्यता नहीं है, बल्कि यह एक गतिशील जीवंत बल है, जो सहन करने और त्याग करने की भावना उत्पन्न करता है। यह इस तथ्य पर आधारित है कि अहिंसा ताकतवर व्यक्ति का गुण है, कमजोरों का नहीं है – अर्थात् क्षमा करना ताकतवर व्यक्ति का सद्गुण है और कमजोर व्यक्ति क्षमा नहीं कर सकता।
  • अहिंसा एक शांत, सूक्ष्म, अदृश्य रूप में कार्य करती है और संपूर्ण समाज को परिवर्तित कर देती है। यह निरंकुशता का सामना करने हेतु किसी व्यक्ति की आत्मा को बल प्रदान करती है। आधुनिक समय में, यह मानव जाति के व्यवस्थापन के लिए सबसे बड़ा नैतिक बल और क्रांतिकारी सामाजिक-राजनीतिक परिवर्तन एवं न्याय के लिए एक प्रभावशाली साधन है। गांधी जी ने कहा था, अहिंसा शारीरिक हानि पहुँचाने के स्थान पर निरंकुशता की मूल भावना पर आघात करने का कार्य करती है। इसके द्वारा लाया गया परिवर्तन अधिक स्थायी होता है।
  • अहिंसा को कोई पराजित नहीं कर सकता है। इसकी कोई सीमा नहीं है और यह जीवन के प्रत्येक पहलू पर लागू होती है। यहाँ तक कि अहिंसक प्रतिरोधकों के समूह को स्थापित करने हेतु अधिक धन के व्यय की भी आवश्यकता नहीं होती है।

दूसरी ओर, हिंसक परिवर्तन न तो सफलता की और न ही दीर्घकालिक शांति की गारंटी प्रदान करता है। हिंसा केवल समाज को नष्ट कर सकती है; यह इसका निर्माण या परिवर्तन नहीं कर सकती है। फ्रांसीसी क्रांति से लेकर वर्तमान के वियतनाम, कोरिया और अरब-इजरायल संघर्ष से संबंधित कई उदाहरण इसी तथ्य को सत्यापित करते हैं। हिंसा कभी भी यथोचित सामाजिक परिवर्तन करने हेतु आवश्यक नैतिक अधिकार प्राप्त नहीं करती है।

Open chat
1
Youth Destination IAS . PCS
To get access
- NCERT Classes
- Current Affairs Magazine
- IAS Booklet
- Complete syllabus analysis
- Demo classes
https://online.youthdestination.in/