info@youthdestination.in Call- 981133 4434 , 9582225699 , 98113 34451

निबंध की तैयारी कैसे करे

एक निबंध किसी एक विषय पर लेखक के तर्क का विश्लेषणात्मक प्रदर्शन को दर्शाता है। निबंध दो प्रकार के होते हैं – औपचारिक और अनौपचारिक। औपचारिक निबंध अवैयक्तिक विषयों पर केंद्रित होते है, जिसमे तथ्यात्मक सामग्री या आंकड़ों का प्रयोग करके उस विचार की पुष्टि की जाती हैं जिसपर निबंध केन्द्रित होता हैं। अनौपचारिक निबन्ध में भावनात्मक पहलू के साथ-साथ विश्लेषण ज्यादा महत्वपूर्ण होता हैं । यूपीएससी की मुख्य परीक्षा में  निबंध पत्र का आधार औपचारिक निबंध लेखन के विषय पर आधारित होता है।

  • निबंध प्रकृति में अवैयक्तिक होना चाहिए और भावनात्मक पहलू कम होना चाहिए।
  • निबंध की भाषा में व्यक्ति के संदर्भ का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए।
  • एक औपचारिक निबंध हमेशा विषय की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए लिखा जाना चाहिए, है।

निबंध,सिविल सेवा में मुख्य परीक्षा का एक अनिवार्य प्रश्र पत्र है जो 200 अंकों का होता है। इसमें दिये गये छह विषयों में से अभ्यर्थी को अपनी रूचि के किसी एक विषय का चयन करके उस पर निबंध लिखना होता है, जिसके लिए उसके पास तीन घंटे का समय होता हैं जिसमे निबंध को हिन्दी अथवा अंग्रेजी में से किसी भी माध्यम में लिखा जा सकता है.

निबंध महत्वपूर्ण क्यों?

  • अच्छा निबंध अभ्यर्थियों द्वारा प्राप्त अंकों में बड़ा अंतर उत्पन्न कर सकता हैं
  • अच्छा निबंध से अभ्यर्थियों की रैंकिंग में काफी सुधार हो सकता हैं
  • इसकी तैयारी में अन्य विषयों से कम समय लगता हैं, परन्तु उनकी तुलना में इस प्रश्न पत्र से अधिक अंक प्राप्त किया जा सकता हैं
  • इस प्रश्न पत्र की अनदेखी असफलता का मुंह दिखा सकती हैं या निम्र रैंकिंग से ही संतोष करना पड़ा सकता हैं

निबंध का पाठ्यक्रम

  • इस प्रश्न पत्र का आयोग द्वारा कोई सुपरिभाषित पाठ्यक्रम निर्धारित नहीं किया गया है
  • विगत वर्ष प्रश्न पत्रों के आधार पर निम्नलिखित कुछ विषयो पर सबसे ज्यादा निबंध पूछे जाते हैं
  • समसामयिक महत्व की घटनाएं
  • सभ्यता एवं संस्कृति
  • विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं पर्यावरण
  • राजनीति एवं प्रशासन
  • आर्थिक विषय
  • दार्शनिक अथवा कल्पना मूलक विषय
  • सामाजिक महत्व के विषय.

 

निबंध लेखन की तैयारी महत्वपूर्ण क्यों है?

निबंध प्रश्न-पत्र के तहत लिखे अनुदेशों को यदि आपने सावधानीपूर्वक पढ़ा हो तो उसमें काफी कुछ व्यक्त किया गया है। यह अनुदेश इस प्रकार है- ‘उम्मीदवार की विषयवस्तु की पकड़ चुने गये विषय के साथ उसकी प्रासंगिकता रचनात्मक तरीके से सोचने की उसकी योग्यता और विचारों को संक्षेप में, युक्तिसंगत और प्रभावी तरीके से प्रस्तुत करने की तरफ परीक्षक विशेष ध्यान देंगे।’ यदि उक्त कथन का सावधानीपूर्वक विश्लेषण करें तो हम पाते हैं कि इसमें चार बातों पर बल दिया गया है-

(क) विषयवस्तु की पकड़

(ख) प्रासंगिकता

(ग) रचनात्मक चिंतन और

(घ) अभिव्यक्ति

कैसे करें शुरुआत?

  • निबंध की रूपरेखा ऐसी होनी चाहिए जिसमें शुरुआत प्रभावशाली हो, जहां इसका मध्यभाग सुव्यवस्थित और प्रासंगिक हो और समापन निर्णायक। ध्यान रहे विषय परिचय और निष्कर्ष में संबंध स्पष्ट रहे और आपने जो कुछ भी बीच में डाला है वह अंतिम भाग तक लयबद्ध लगे।
  • लेखन में सावधानी बरतें कि कुछ छूट तो नहीं रहा और आप सभी मुख्य बिंदुओं को कवर करने में सक्षम हैं तथा विचारों को स्पष्ट एवं प्रभावी रूप से व्यक्त कर रहे हैं। साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि प्रस्तुति गुथी और अनुक्रमण सहज है।
  • एक सटीक और सुनियोजित निबंध परीक्षक का ध्यान आकर्षित करेगा और आपको अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद करेगा। आइए अब हम अच्छे निबंध की विशेषता से परिचित हो लेते हैं-
  • मेन्स परीक्षा में आपके खेल को बढ़ाने में निबंध पेपर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अपनी पसंद के विषय का चयन करते समय इस कारक को ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह एक अच्छा स्कोरिंग पेपर है, जहां उम्मीदवारों को 150 से ऊपर स्कोर करने के लिए जाना जाता है, जो मेन्स के लिए उनके कुल मिलान में जोड़ता है।

एक अच्छे निबंध का प्रारूप

 

निबंध को 3 भागों में विभाजित किया जा सकता है -1। परिचय(प्रस्तावना), 2. मुख्य भाग  3. निष्कर्ष

परिचय(प्रस्तावना)

जैसा कि हम जानते हैं, फर्स्ट इम्प्रेशन लास्ट इम्प्रेशन, इंट्रोडक्शन है, जो एक निबंध में पर भी लागू होती हैं। अतः किसी भी निबंध को किस उद्धरण या कथन के साथ प्रारंभ कर सकते हैं

मुख्य भाग  

यह भाग किसी भी निबंध का सबसे महत्वपूर्ण भाग हैं , जिसमे उम्मीदवार को अपने पुरे ज्ञान का प्रदर्शन करना होता हैं , जिसमे उम्मीदवार से निम्नलिखित चीजो की आशा की जाती हैं

  • विषय का मुख्य मुद्दा क्या हैं , उसका स्पस्ट होना
  • उसने सभी आयामों के बारे में चर्चा होना
  • उससे संबधित सकारात्मक और नकारात्मक पहलू का विवरण
  • एक अच्छा निबंध हमेशा प्रकृति में बहुआयामी होगा (विशेषकर अनुभाग-बी वाले)। उम्मीदवारों को, एक अच्छा उद्देश्य निबंध लिखने के लिए, निबंध में एक केंद्रीय विषय के राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक, तकनीकी, पर्यावरण और कानूनी पहलुओं को एकीकृत करने का प्रयास करना चाहिए।
  • यूपीएससी द्वारा एक अच्छे निबंध के लिए मूल बातें कम से कम एक विषय के सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक पहलुओं को शामिल करने का प्रयास करना चाहिए।

निष्कर्ष

निष्कर्ष पैराग्रफ शुरू करने के लिए जो भी प्रश्न पूछा गया है पहले उसका सटीक और पूर्ण जवाब देना जरूरी है ताकि हम जो भी निष्कर्ष लिखें वह पूरी तरह से उत्तर को सार्थक करता है।

 

February 2021
M T W T F S S
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728

Leave a Reply

Open chat
1
Youth Destination IAS . PCS
To get access
- NCERT Classes
- Current Affairs Magazine
- IAS Booklet
- Complete syllabus analysis
- Demo classes
https://online.youthdestination.in/