खाद्य संकट पर वैश्विक रिपोर्ट 2023

खाद्य संकट पर वैश्विक रिपोर्ट 2023

हाल ही में ‘खाद्य संकट पर वैश्विक रिपोर्ट’(Global Report on Food Crises -GRFC) 2023 जारी की गई है।

रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया कि 2022 में दुनिया में 691 मिलियन से 783 मिलियन लोग भूख से पीड़ित थे (यह महामारी 2019 से पहले की तुलना में कहीं अधिक स्तर दर्शाता है)।

ग्लोबल रिपोर्ट ऑन फ़ूड क्राइसिस (GRFC), फ़ूड सिक्योरिटी इनफार्मेशन नेटवर्क (FSIN) द्वारा तैयार की गई है जिसे ‘ग्लोबल नेटवर्क अगेंस्ट फ़ूड क्राइसिस (GNAFC) द्वारा जारी किया गया है ।

खाद्य संकट पर वैश्विक रिपोर्ट के बारे में

जीआरएफसी का निर्माण खाद्य सुरक्षा सूचना नेटवर्क द्वारा खाद्य संकट के खिलाफ वैश्विक नेटवर्क के समर्थन में किया जाता है।

यह देशों में तीव्र खाद्य असुरक्षा का आकलन करता है ।

रिपोर्ट मूल्यांकन के तहत वर्ष से पहले और उसके दौरान वैश्विक संदर्भों को निर्धारित करती है, विशेष रूप से शहरीकरण की बढ़ती घटना और खाद्य सुरक्षा पर इसके प्रभावों पर ध्यान देती है।

रिपोर्ट की मुख्य बातें

2019 से 2020 तक तेज वृद्धि के बाद, मध्यम या गंभीर खाद्य असुरक्षा का वैश्विक प्रसार लगातार दूसरे वर्ष अपरिवर्तित रहा , लेकिन पूर्व-कोविड-19-महामारी के स्तर से काफी ऊपर रहा।

2022 में, अनुमानित 2.4 बिलियन लोगों को पर्याप्त भोजन तक पहुंच नहीं थी। यह 2019 की तुलना में अभी भी 391 मिलियन अधिक लोग हैं।

अल्पपोषण की व्यापकता – 2021 से 2022 तक अपेक्षाकृत अपरिवर्तित रही, लेकिन फिर से,अल्पपोषण की व्यापकता पूर्व-कोविड-19 महामारी के स्तर से कहीं ऊपर है,

रिपोर्ट के अनुसार, 2019 में 7.9% की तुलना में 2022 में दुनिया की लगभग 9.2% आबादी प्रभावित हुई है।

रिपोर्ट में प्रस्तुत संशोधित विश्लेषण से पता चलता है कि स्वस्थ आहार का खर्च वहन करने में असमर्थ लोगों की संख्या काफी बनी हुई है जो वर्ष 2020 में लगभग 3 अरब लोग थी ।

हालांकि 2019 और 2021 के बीच वैश्विक स्तर पर स्वस्थ आहार की लागत में 6.7% की वृद्धि हुई।

पांच साल से कम उम्र के बच्चों में स्टंटिंग और चाइल्ड वेस्टिंग में गिरावट आई है ,2000 में 204.2 मिलियन से 2022 में 148.1 मिलियन हो गई है।

इसके साथ ही, अपर्याप्त पोषक तत्वों के सेवन या अवशोषण के कारण बच्चों में कुपोषण की समस्या 2000 में 54.1 मिलियन से घटकर 2022 में 45 मिलियन हो गई।

खाद्य सुरक्षा क्या है?

खाद्य सुरक्षा को (1996 के विश्व खाद्य शिखर सम्मेलन से) इस प्रकार परिभाषित किया गया है: “जब सभी लोगों को, हर समय, पर्याप्त, सुरक्षित और पौष्टिक भोजन तक शारीरिक और आर्थिक पहुंच प्राप्त होती है जो सक्रिय और स्वस्थ जीवन के लिए उनकी आहार संबंधी आवश्यकताओं और खाद्य प्राथमिकताओं को पूरा करता है”।

जनसंख्या में मध्यम या गंभीर खाद्य असुरक्षा की व्यापकता खाद्य असुरक्षा अनुभव स्केल (FIES) पर आधारित है।

रिपोर्ट में खाद्य असुरक्षा के निम्नलिखित कारणों को जिम्मेदार बताया गया है:

2020 में लॉकडाउन, से आई आर्थिक मंदी और अन्य महामारी से संबंधित व्यवधानों के कारण गति धीमी हो गई,

यूक्रेन युद्ध;

सरकारी नीतियां का पूर्ण रूप से पालन नहीं हो पाना और

बढ़ता शहरीकरण जो कृषि-खाद्य प्रणालियों के माध्यम से परिवर्तन लाता है।

रिपोर्ट में ग्रामीण, उपनगरीय और शहरी आबादी के बीच खाद्य असुरक्षा की तुलना से पता चलता है कि वैश्विक खाद्य असुरक्षा शहरी क्षेत्रों में कम है।

स्रोत – द हिन्दू

Download Our App

More Current Affairs

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities