प्रश्न – क्षेत्रवाद की अवधारणा को स्पष्ट करते हुए भारत में इससे सम्बंधित चुनौतियों और समाधानों का विवरण प्रस्तुत कीजिए

Share with Your Friends

प्रश्न – क्षेत्रवाद की अवधारणा को स्पष्ट करते हुए भारत में इससे सम्बंधित चुनौतियों और समाधानों का विवरण प्रस्तुत कीजिए – 22 june 2021

उत्तर –  क्षेत्रवाद एक ऐसी विचारधारा है जिसका संबंध ऐसे क्षेत्र से होता है, जो धार्मिक, आर्थिक, सामाजिक या सांस्कृतिक कारणों से अपने पृथक अस्तित्व के लिये सजीव होती है या ऐसे क्षेत्र की पृथकता को यथावत बनाए रखने के लिये निरंतर प्रयासरत रहती है। इसमें राजनीतिक, प्रशासनिक, सांस्कृतिक और भाषाई आधार पर क्षेत्रों के विभाजन आदि से संबंधित मुद्दे शामिल हो सकते हैं, लेकिन जब क्षेत्रवाद की विचारधारा को किसी विशेष क्षेत्र के विकास के साथ देखा जाता है, तो यह अवधारणा नकारात्मक हो जाती है।

क्षेत्रवाद के उदय के कारण:

हालांकि भारतीय संदर्भ में क्षेत्रवाद कोई नवीन विचारधारा नहीं है। अति प्राचीन काल से वर्तमान परिदृश्य तक समय-समय पर कई ऐसे करक और कारण रहे हैं, जिन्हें क्षेत्रवाद के उदय हेतु महत्वपूर्ण माना गया है, उनमें से कुछ इस प्रकार हैं-

धार्मिक आधार पर:

धर्म क्षेत्रवाद के मुख्य कारणों में से एक है। धर्म का राजनीतिकरण करके, विभिन्न राजनीतिक दल लोगों से क्षेत्रीय विकास के वादे करते हैं, जो देश की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता के लिए हानिकारक है। धर्म के आधार पर क्षेत्रवाद को बढ़ावा देना लोगों की धार्मिक मान्यताओं और विश्वासों के साथ खिलवाड़ है, जो उन्हें संविधान द्वारा मौलिक अधिकारों के रूप में दिया गया है।

भाषायी आधार पर:

भाषा के आधार पर लोगों को एकीकृत करना या फिर किसी क्षेत्र का गठन करना क्षेत्रवाद को बढ़ावा देने वाले कारणों में से है। यह भाषाई विवाद आजादी से पहले भी एक प्रमुख राजनीतिक मुद्दा बना रहा। 1920 में कांग्रेस पार्टी ने भाषाई आधार पर राज्यों के गठन की मांग की। 1927 में नेहरू रिपोर्ट में इस मांग को दोहराया गया। आजादी के बाद सबसे विवादास्पद विषय भाषाई आधार पर राज्यों का पुनर्गठन था, इसलिए इस विवाद को समाप्त करने के लिए वर्ष 1948 में धार आयोग का गठन किया गया और उसके बाद जे.वी.पी. समिति द्वारा भाषाई आधार पर राज्यों के पुनर्गठन की भी सिफारिश की गयी ।

राजनीति के आधार पर:

भारत में क्षेत्रवाद को बढ़ावा देने में राजनीति को भी एक महत्वपूर्ण कारक के रूप में देखा जाता है। राजनीतिक दृष्टि से देखा जाए तो भारत में क्षेत्रवाद की समस्या को केवल राजनेताओं से ही बल मिलता है। 1968 में पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग और नक्सली इलाकों में हुए विद्रोहों से चिंतित केंद्र सरकार के प्रभावित क्षेत्रों में हथियारों के कब्जे पर प्रतिबंध लगाने के फैसले को राज्य सरकारों ने केंद्र सरकार का हस्तक्षेप माना। जनता पार्टी के शासन काल में गोहत्या पर प्रतिबंध के मुद्दे पर केंद्र और तमिलनाडु, केरल और पश्चिम बंगाल की सरकारों के बीच विवाद को कट्टरपंथी क्षेत्रवाद का उदाहरण माना जा सकता है।

क्षेत्रवाद से उत्पन्न चुनौतियां:

लगातार नए राज्यों के बनने से देश की अखंडता और एकता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। नवगठित राज्यों में एक भी नया राज्य नहीं उभरा है, जिसके बाद विकास दर में अभूतपूर्व वृद्धि दर्ज की गई है। क्षेत्रवाद के कारण केंद्र-राज्य संबंधों पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। यह  गठबंधन की राजनीति को प्रोत्साहित करता है, जो क्षेत्रों के विकास के लिए नीति-निर्माण या इन नीतियों के कार्यान्वयन में एक दुविधा पैदा करता है।

क्षेत्रवाद के परिणामस्वरूप अनेक क्षेत्रीय दल उभर कर सामने आए हैं, जिसके कारण प्रत्येक क्षेत्र के हित समूह अर्थात नेता, उद्योगपति और राजनेता अपने-अपने क्षेत्रीय विकास को प्राथमिकता देते हुए दिखाई दे रहे हैं। क्षेत्रीय स्तर पर विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा क्षेत्रीय विकास का वादा करके लोगों की धार्मिक आस्था को वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, जिससे देश में सांप्रदायिकता और हिंसा का माहौल बनता है। क्षेत्रवाद के कारण देश में अलगाववाद की भावना को प्रोत्साहित किया जाता है, समय-समय पर हमने इसके कुछ उदाहरण भी देखे हैं जैसे असम में अल्फा गुट का गठन, मिजोरम में मिजो नेशनल फ्रंट की गतिविधियाँ आदि प्रेरित हैं।

निदान:

  • शिक्षा के माध्यम से एक राष्ट्रव्यापी दृष्टिकोण विकसित करके, लोगों और आने वाली पीढ़ियों के बीच क्षेत्रवाद के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता विकसित की जा सकती है।
  • राज्यों को एक दूसरे के विकास में भागीदार के रूप में एक साथ आना होगा। उदाहरण के लिए, जिस तरह से पंजाब, हरियाणा के थर्मल पावर स्टेशनों को झारखंड, ओडिशा से बिजली उत्पादन के लिए आवश्यक कोयले की आपूर्ति की जाती है।
  • राज्यों की समस्याओं और जरूरतों को समझने के लिए नीति आयोग को बेहतर तरीके से काम करने की जरूरत है।
  • राज्य सरकारों को अनुच्छेद -263 में उल्लिखित अंतर-राज्य परिषदों द्वारा दिए गए सुझावों पर ध्यान देने की आवश्यकता है, जिन्हें राज्यों के बीच विवादों को हल करने के लिए एक सलाहकार निकाय के रूप में गठित किया गया है।
  • केंद्र सरकार द्वारा प्राकृतिक और खनिज संसाधनों का वितरण राज्यों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए किया जाना चाहिए।

क्षेत्रवाद की विचारधारा को समझने के साथ-साथ हमें इस बात पर भी पुनर्विचार करने की आवश्यकता है कि हम पहले भारतीय हैं उसके बाद मराठी, गुजराती, पंजाबी आदि हैं। हमें अपने व्यक्तिगत हितों की अनदेखी करते हुए देश की संप्रभुता, एकता और अखंडता का सम्मान करना चाहिए।

Download our APP – 

Go to Home Page – 

Buy Study Material – 

Click to Join Our Current Affairs WhatsApp Group

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilation & Daily Mains Answer Writing Test & Current Affairs MCQ

In Our Current Affairs WhatsApp Group you will get daily Mains Answer Writing Question PDF and Word File, Daily Current Affairs PDF and So Much More in Free So Join Now

Register For Latest Notification

Register Yourself For Latest Current Affairs

December 2022
M T W T F S S
« Nov    
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293031  

Mains Answer Writing Practice

Recent Current Affairs (English)

Current Affairs (हिन्दी)

Subscribe Our Youtube Channel

Register now

Get Free Counselling Session with mentor

Download App

Get Youth Pathshala App For Free

Open chat
1
Youth Destination IAS . PCS
To get access
- NCERT Classes
- Current Affairs Magazine
- IAS Booklet
- Complete syllabus analysis
- Demo classes
https://online.youthdestination.in/