एम एस स्वामीनाथन : भारतीय हरित क्रांति के जनक

एम एस स्वामीनाथन: भारतीय हरित क्रांति के जनक

चर्चा में क्यों ?

भारत की हरित क्रांति के जनक, कृषि वैज्ञानिक मानकोम्बु संबासिवन स्वामीनाथ (डॉ. एम.एस. स्वामीनाथन) का निधन हो गया।

हरित क्रांति की उत्पत्ति

स्वामीनाथन की विरासत की जड़ें 1960 के दशक के दौरान गेहूं की उच्च उपज देने वाली किस्मों (HYV) के विकास में पाई जाती हैं। नॉर्मन बोरलॉग जैसे वैज्ञानिक के साथ सहयोग करके, उन्होंने भारत में संभावित बड़े पैमाने पर अकाल को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस सफलता ने देश में हरित क्रांति की उत्पत्ति को चिह्नित किया, जिससे स्वामीनाथन को उनकी विशिष्ट उपाधि मिली।

नेतृत्व और वैश्विक प्रभाव

स्वामीनाथन का योगदान राष्ट्रीय सीमाओं को पार कर गया। उन्होंने 1972-1979 तक भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के महानिदेशक के रूप में कार्य किया और प्रमुख कृषि नीतियों को प्रभावित किया। बाद में उन्होंने 1979-1980 तक भारतीय कृषि और सिंचाई मंत्रालय के प्रधान सचिव की महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

सम्मान

स्वामीनाथन के योगदान के कारण उन्हें विभिन्न सम्मान और पुरस्कार प्राप्त हुए जो निम्नलिखित हैं:

  • 1961 में शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार
  • 1989 में पद्म विभूषण
  • 1971 में रेमन मैगसेसे पुरस्कार
  • 1999 में यूनेस्को महात्मा गांधी स्वर्ण पदक

स्वामीनाथन का  हरित क्रांति में योगदान

  • चावल पर स्वामीनाथन के काम के बाद, वह और अन्य वैज्ञानिक गेहूं की फसल की उत्पादकता बढ़ाने के लिए भी ऐसा ही करने पर काम करेंगे।
  • स्वामीनाथन ने कहा, “गेहूं एक अलग कहानी थी क्योंकि हमें मेक्सिको में नॉर्मन बोरलॉग से नोरिन बौना जीन प्राप्त करना था।” बोरलॉग एक अमेरिकी वैज्ञानिक थे जो अधिक उत्पादक फसल किस्मों के विकास पर काम कर रहे थे। उन्होंने 1970 में नोबेल शांति पुरस्कार दिया गया ।

हरित क्रांति के दुष्प्रभाव

भारत में पर्याप्त भोजन प्राप्त करने में अपनी ऐतिहासिक भूमिका के बावजूद, हरित क्रांति की कई मामलों में आलोचना की गई है, जैसे कि पहले से ही समृद्ध किसानों को लाभ पहुंचाना क्योंकि इसे उच्च उत्पादकता वाले राज्यों में पेश किया गया था।

कुट्टनाड और केरल की जैव विविधता में योगदान:

  • कुट्टनाड पैकेज: रु 1,800 करोड़ से अधिक का कुट्टनाड पैकेज, एम.एस. द्वारा अनुशंसित किया गया । स्वामीनाथन रिसर्च फाउंडेशन (एमएसएसआरएफ) ने आर्द्रभूमि प्रणाली को ‘विशेष कृषि क्षेत्र’ घोषित करने, जल प्रसार क्षेत्रों की रक्षा करने, बुनियादी ढांचे का आधुनिकीकरण करने और कम अवधि वाली धान की किस्मों को प्रोत्साहित करने की सिफारिश की गयी ।
  • जैव विविधता संरक्षण: इडुक्की जिले (इडुक्की पैकेज) पर एमएसएसआरएफ की 2008 की रिपोर्ट और वायनाड में ‘सामुदायिक कृषि जैव विविधता केंद्र’ की स्थापना ने जैव विविधता संरक्षण के प्रति उनकी प्रतिबद्धता को दर्शाया।
  • उन्होंने यथास्थान और खेत में संरक्षण परंपराओं के लिए जन जागरूकता, सामुदायिक भागीदारी और आर्थिक प्रोत्साहन की वकालत की।

हरित क्रांति के लाभ

  • इसका भारत में समग्र खाद्य सुरक्षा पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। इससे कृषि उत्पादन में वृद्धि हुई, विशेषकर हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश में।
  • हरित क्रांति ने अनुकूलित उपायों के माध्यम से फसलों की उच्च उत्पादकता को जन्म दिया, जैसे
  • खेती के अंतर्गत क्षेत्र में वृद्धि,
  • दोहरी फसल, जिसमें सालाना एक के बजाय दो फसलें लगाना शामिल है,
  • बीजों की HYV को अपनाना,

स्रोत – Indian Express

Download Our App

More Current Affairs

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities