अटल नवीकरण और शहरी परिवर्तन मिशन (अमृत) 2.0 का शुभारंभ

अटल नवीकरण और शहरी परिवर्तन मिशन (अमृत) 2.0 का शुभारंभ

हाल ही में प्रधान मंत्री ने अटल नवीकरण और शहरी परिवर्तन मिशन (Atal Mission for Rejuvenation and Urban Transformation: AMRUT/अमृत) 2.0 का शुभारंभ किया गया है।

अमृत 2.0 जल संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने, जल निकायों का पुनः जीर्णोद्धार करने, जलभूतों का बेहतर प्रबंधन करने तथा उपचारित अपशिष्ट जल का पुनः उपयोग करने के लिए अमृत की प्रगति की दिशा में कार्य करेगा। इससे जल की चक्रीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा।

अटल नवीकरण और शहरी परिवर्तन मिशन – अमृत 2.0 की प्रमुख विशेषताएं

  • लगभग 4,700 शहरी स्थानीय निकायों (ULBs) के सभी घरों मेंजल की आपूर्ति का 100% कवरेज प्राप्त करना।
  • अमृत योजना के अंतर्गत आने वाले 500 शहरों से आगे बढ़ते हुए 1 लाख से अधिक आबादी वाले सभी 4,372 शहरों को सम्मिलित करते हुए, 100% शहरी भारत को कवर करना शामिल है।

सार्वजनिक निजी भागीदारी (Public Private Partnership – PPP): दस लाख से अधिक आबादी वाले शहरों हेतु यह अनिवार्य किया गया है कि वे अपनी कुल परियोजना निधि आवंटन के न्यूनतम 10 प्रतिशत को PPP परियोजनाओं के लिए अपनाएं ।

जल की चक्रीय अर्थव्यवस्था: शोधित सीवेज के पनर्चक्रण अथवा पुनः उपयोग, जल निकायों के कायाकल्प और जल संरक्षण पर ध्यान केंद्रित करते हुए प्रत्येक शहर के लिए शहर जल संतुलन योजना (City Water Balance Plan) का निर्माण करना।

जल का समान वितरण, अपशिष्ट जल का पुनः उपयोग औरजल निकायों के मानचित्रण को सुनिश्चित करने के लिए शहरों में पेयजल सर्वेक्षण किया जाएगा।

योजना को अवसंरचना के निर्माण पर ध्यान देने के लक्ष्य के साथ आरंभ किया गया था। इसका उद्देश्य सभी नागरिकों के लिए 6 जीवन की गुणवत्ता में सुधार हेतु जल की आपूर्ति, सीवरेज, शहरी परिवहन, उद्यानों का विकास आदि जैसी बुनियादी नागरिक सुविधाएं प्रदान करना था।

स्रोत – पी आई बी

Download Our App

More Current Affair

Share with Your Friends

Join Our Whatsapp Group For Daily, Weekly, Monthly Current Affairs Compilations

Related Articles

Youth Destination Facilities