अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण

Print Friendly, PDF & Email

अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण

अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण (इंटरनेशनल फाइनेंसियल सर्विस सेंटर अथॉरिटी –आइफएससीए)  अंतर्राष्ट्रीय प्रतिभूति आयोग संगठन (आइओएससीओ ) का एक सहयोगी सदस्य बना।

अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण (आइफएससीए):

  • अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण का कार्य एक मज़बूत वैश्विक संपर्क सुनिश्चित करने और भारतीय अर्थव्यवस्था की ज़रूरतों पर ध्यान केंद्रित करने के साथ-साथ पूरे क्षेत्र तथा वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिये एक अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय मंच के रूप में सेवा प्रदान करना है।
  • आइफएससीएकी स्थापना अप्रैल,2020 में अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण विधेयक, 2019 के तहत की गई थी।एक आइफएससीए घरेलू अर्थव्यवस्था के अधिकार क्षेत्र से बाहर के ग्राहकों को आवश्यक सेवाएँ उपलब्ध कराता है।इसका मुख्यालय गांधीनगर (गुजरात) की गिफ्ट सिटीमें स्थित है।
  • यह भारत में अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र (आइफएससी) में वित्तीय उत्पादों, वित्तीय सेवाओं और वित्तीय संस्थानों के विकास तथा विनियमन के लिये एक एकीकृत प्राधिकरण है।
  • इसकी स्थापना आइफएससी में ‘ईज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस’को बढ़ावा देने और एक विश्व स्तरीय नियामक वातावरण प्रदान करने के लिये की गई है।

अंतर्राष्ट्रीय प्रतिभूति आयोग संगठन (आइओएससीओ):

  • अंतर्राष्ट्रीय प्रतिभूति आयोग संगठन की स्थापना अप्रैल,1983 में हुई थी। इसका मुख्यालय: मेड्रिड, स्पेन में है।
  • आइओएससीओका एशिया पैसिफिक हब (आइओएससीओ एशिया पेसिफिक हब) कुआलालंपुर, मलेशिया में स्थित है।
  • यह अंतर्राष्ट्रीय संगठन विश्व के प्रतिभूति नियामकों को एक साथ लाता है। आइओएससीओविश्व के 95% से अधिक प्रतिभूति बाज़ारों को कवर करता है तथा प्रतिभूति क्षेत्र के लिये वैश्विक मानक निर्धारक का कार्य करता है।
  • यह प्रतिभूति बाज़ारों की मज़बूती हेतु मानक स्थापित करने के लिये जी-20 समूह और वित्तीय स्थिरता बोर्ड के साथ मिलकर काम करता है।
  • वित्तीय स्थिरता बोर्डएक अंतर्राष्ट्रीय निकाय है, जो वैश्विक वित्तीय प्रणाली के संदर्भ में अपनी सिफारिशें प्रस्तुत करता है।
  • आइओएससीओ के प्रतिभूति विनियमन के सिद्धांतों और लक्ष्यों को FSB द्वारा तर्कसंगत वित्तीय प्रणालियों के लिये प्रमुख मानकों के रूप में समर्थन प्रदान किया गया है।
  • आइओएससीओ की प्रवर्तन भूमिका का विस्तार ‘अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय रिपोर्टिंगमानक’ की व्याख्या के मामलों तक है, जहाँ आइओएससीओसदस्य एजेंसियों द्वारा की गई प्रवर्तन कार्रवाइयों का एक (गोपनीय) डेटाबेस रखा जाता है।
  • अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय रिपोर्टिंग एक लेखा मानक है जिसे अंतर्राष्ट्रीय लेखा मानक बोर्ड द्वारा वित्तीय जानकारी के प्रस्तुतीकरण में पारदर्शिता बढ़ाने के लिये एक सामान्य लेखांकन भाषा प्रदान करने के उद्देश्य से जारी किया गया है।

उद्देश्य:

निवेशकों की सुरक्षा, निष्पक्ष, कुशल और पारदर्शी बाज़ारों को बनाए रखने तथा प्रणालीगत जोखिमों को दूर करने के लिये अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त एवं विनियमन, निरीक्षण व प्रवर्तन के मानकों का पालन सुनिश्चित करने, लागू करने और बढ़ावा देने में सहयोग करना।

स्त्रोत:पीआइबी

Open chat
1
Youth Destination IAS . PCS
To get access
- NCERT Classes
- Current Affairs Magazine
- IAS Booklet
- Complete syllabus analysis
- Demo classes
https://online.youthdestination.in/